Monday Motivation
Nojoto
Nojoto

Expired

Monday Motivation

Use #MondayMotivation52 Story

Challenge Over
  • Your Challenge
  • The Prize
  • T & C

Share Your Quotes or Poetry of any type i.e Motivational, Love, Sad etc using #MondayMotivation

  • Top Stories
  • Latest Stories
  • Inspiration
  • Winner

"आज एक नयी सुबह है, श्रद्धा और सबुरी से आगे बढना है, मंजील करीब नजर आएगी, एक कदम बस बढाना है. "

आज एक नयी सुबह है, 
श्रद्धा और सबुरी से आगे बढना है, 
मंजील करीब नजर आएगी, 
एक कदम बस बढाना है.

#MondayMotivation #Nojoto #Nojotohindi #Motivational #Life #Journey

87 Love

"उठो जागो और लक्ष्य को संर्पित हो जाओ.. ऐसा चलो की हर कोई पीछे रह जाए।।"

उठो जागो और लक्ष्य को संर्पित हो जाओ..
ऐसा चलो की हर कोई पीछे रह जाए।।

#MondayMotivation

80 Love

"#MondayMotivation Leave home earlier if you want to reach your workplace in time."

#MondayMotivation

Leave home earlier if you want to reach your workplace in time.

#MondayMotivation

77 Love

"Making excuses will not get any result but Taking actions will definitely get results "

Making excuses will not get any result but 
Taking actions will definitely get results

#MondayMotivation #Nojoto #Challenge #results #Life #excuses #Action

74 Love

"बस इतनी सी ख्वाहिश है, आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै। तारे बिखेर दूं जमी पर और छूकर उन्हें उन्हीं सा हो जाऊं मैं। ओढ़कर रात का आँचल बुनूं कुछ हसीं किस्से, फिर वही किस्से दादी-नानी को सुनाऊँ मैं। गुलों की वादी में जाके रंगू तितलियों के पर पंछियों को उड़ना सीखाऊं मैं। बस इतनी सी ख्वाहिश है, आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै । खिलूं फूल बनकर कभी डाली पे जो भँवरों के साथ मिलकर कोई गीत गाऊँ मैं। गिरुं पतझड़ के पत्तों सा जो टूटकर डाली से बैठ हवाओं के कांधे पर बादलों के पार जाऊं मैं। बस इतनी सी ख्वाहिश है, आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै।"

बस इतनी सी ख्वाहिश है,
आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै।
तारे बिखेर दूं जमी पर
और छूकर उन्हें उन्हीं सा हो जाऊं मैं।

ओढ़कर रात का आँचल बुनूं कुछ हसीं किस्से,
फिर वही किस्से दादी-नानी को सुनाऊँ मैं।

 गुलों की वादी में जाके रंगू तितलियों के पर 
पंछियों को उड़ना सीखाऊं मैं। 
बस इतनी सी ख्वाहिश है, 
आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै ।

खिलूं  फूल बनकर कभी डाली पे जो 
 भँवरों के साथ मिलकर कोई गीत गाऊँ मैं। 
गिरुं पतझड़ के पत्तों सा जो टूटकर डाली से
बैठ हवाओं के कांधे पर बादलों के पार जाऊं मैं।

बस इतनी सी ख्वाहिश है,
आसमा से चाँद तोड़ लाऊं मै।

#Chand #MondayMotivation #Nojoto #Poetry #kavitakosh #Kwahisen #Nojotopost #Nojotokhabri

66 Love