Aksar Ik Sawaal Sa
Kalakaksh
Kalakaksh

Expired

Aksar Ik Sawaal Sa

Use #kalakakshopenmicday963 Story

Challenge Over
  • Your Challenge
  • The Prize
  • T & C

आज हम आपको सबसे महत्वपूर्ण विषयों 'अकर इक सवाल सा' देकर अपने लेखन कौशल को और अधिक बढ़ाएंगे।

  • Top Stories
  • Latest Stories
  • Inspiration
  • Winner

"अक्सर एक सवाल ज़हन में आता है ये जात पात की सोच ना जाने कहा से आती हैं भूख जोरो की हो तो हर जात की रोटी से भूख मिट जाती हैं क्यू खुद को इतना ऊपर जात के नाम पर बता रखा है अब तो ये बोलकर तू खुद को ही नीचा बता रहा हैं "

अक्सर एक सवाल ज़हन में आता है 


ये जात पात की सोच ना जाने कहा से आती हैं 
भूख जोरो की हो तो हर जात की रोटी से भूख मिट जाती हैं 

क्यू खुद को इतना ऊपर जात के नाम पर बता रखा है 
अब तो ये बोलकर तू खुद को ही नीचा बता रहा हैं

#Nojoto #Nojotohindi #kalakakshopenmicday9 #cast #sociali #issues #Love #Life #Quotes #Poetry

369 Love
39 Share

"अक्सर एक सवाल मैं, खुद से पूछती हूँ, अक्सर उसका जवाब, देते देते रह जाती हूँ, जवाब था या नहीं मेरे पास उसका, ये सोचते हुए, अक्सर उस सवाल के वजूद पर ही उँगली उठा देती हूँ | @रुचि झा "

अक्सर एक सवाल मैं, खुद से पूछती हूँ,
अक्सर उसका जवाब, देते देते  रह जाती हूँ,
जवाब था या नहीं मेरे पास उसका, ये सोचते हुए,
अक्सर उस सवाल के वजूद पर ही उँगली उठा देती हूँ |
@रुचि झा

#kalakakshopenmicday9 #Nojotohindi #Nojoto

150 Love

"अक्सर एक सवाल सा आता है, ज़हन में कि जिंदगी में मुश्किल है या मुश्किल में जिंदगी ।"

अक्सर एक सवाल सा आता है, ज़हन में 
कि जिंदगी में मुश्किल है या मुश्किल में जिंदगी ।

#kalakakshopenmicday9 #Poetry #Quotes #Nojoto #Nojotohindi #TST

117 Love

#NojotoVideo #Nojotohindi #Nojoto #aksarekswaalsa #kalakakshopenmicday9 #Death #Pain #Memories

81 Love
198 Views

"अक्सर एक सवाल जेहन मे आता है के क्यूँ कोई चेहरो पर नकाब लगाता हैं शायद कोई झूठ कोई राज़ हमसे छुपाता है अपना कहता है फिर क्यूँ दगा दे जाता हैं होंठो पर हँसी लेकर पीठ पर अक्सर वार कर जाता हैं यूँ तो शरीक होता हैं हर खुशियों मे पर उन खुशियों मे वो शरीक कहां हो पाता हैं अक्सर एक सवाल जहन मे आता है के क्यूँ कोई चेहरो पर नकाब लगाता हैं"

अक्सर एक सवाल जेहन मे आता है
के क्यूँ कोई चेहरो पर नकाब लगाता हैं
शायद कोई झूठ कोई राज़ हमसे छुपाता है
अपना कहता है फिर क्यूँ  दगा दे जाता हैं
होंठो पर हँसी लेकर पीठ पर अक्सर वार कर जाता हैं
यूँ तो शरीक होता हैं हर खुशियों मे
पर उन खुशियों मे वो शरीक कहां हो पाता हैं
अक्सर एक सवाल जहन मे आता है
के क्यूँ कोई चेहरो पर नकाब लगाता हैं

#kalakakshopenmicday9 #my_feelings #Poetry #Love #ehsaas #kavishala

76 Love