अगर  गाँधी जी आज ज़िंदा होते
Nojoto
Nojoto

Expired

अगर गाँधी जी आज ज़िंदा होते

Use #गाँधी25 Story

Challenge Over
  • Your Challenge
  • The Prize
  • T & C

क्या होता अगर आज गाँधी जी ज़िंदा होते, शेयर करें अपने विचार

  • Top Stories
  • Latest Stories
  • Inspiration
  • Winner

"अगर गाँधी जी ज़िंदा होते तो देख भारत के ये बदलते हालात आज वो भी शरमिंदा होते क्या यही है उनके सपनों का भारत, क्या इसी के लिए लड़ी उन्होंने आजादी की लडाई थी, क्या इसी के लिए हजारों वीर शहीदों ने जान गंवाई थी?"

अगर गाँधी जी ज़िंदा होते तो देख भारत के ये बदलते हालात 
आज वो भी शरमिंदा होते
क्या यही है उनके सपनों का भारत, 
क्या इसी के लिए लड़ी 
उन्होंने आजादी की लडाई थी, 
क्या इसी के लिए हजारों 
वीर शहीदों ने जान गंवाई थी?

#गाँधी #Gandhijayanti #Gandhi #Azadi #Freedom #Struggle #India #hardwon #sapne

82 Love

क्या आप बता सकते हैं गाँधी जी क्या सोच रहे हैं😜
Use this wallpaper to write and share it with
#Nojotocomedy to get featured

#Nojoto #Nojoto

47 Love

क्या होता अगर गाँधी जी आज ज़िंदा होते
शेयर करे अपने विचार इस वॉलपेपर का उपयोग करके |
#Nojotohindi #Hindi #गाँधी #Nojoto

43 Love

"अगर गाँधी जी ज़िंदा होते तो तो शायद भारत के दो तीन टुकड़े और हो जाते"

अगर गाँधी जी ज़िंदा होते तो तो शायद भारत के दो तीन टुकड़े और हो जाते

#Gandhi#Baapu#गाँधी#Nojoto

36 Love

"Mahatma Gandhi आप कहते हैं कि अगर कोई एक गाल पे मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो, आपने कहा हिंसा से और रक्तपात से आजादी नहीं मिलेगी,भगत सिंह,राजगुरू,सुखदेव को फाँसी दी गयी तब आपन कहा--भगत सिंह और उनके साथियों को फांसी दी गई. वे अमर शहीद हो गए. उनकी मृत्यु बहुत से लोगों के लिए निजी क्षति की तरह है. मैं इन युवकों की स्मृति को नमन करता हूं. परंतु मैं देश के नवयुवकों को इस बात की चेतावनी देता हूं कि उनके पथ का अनुसरण नहीं करें. हमें अपनी ऊर्जा, आत्मोसर्ग की भावना, अपने श्रम और अपने अदम्य साहस का इस्तेमाल उनकी भांति नहीं करना चाहिए. इस देश की स्वतंत्रता रक्तपात से जरिए नहीं प्राप्त होनी चाहिए."यानी आपकी नजर में क्रांती का मार्ग अनुचित था जिसे आपने हिंसा का मार्ग कहा। इस हिसाब से तो देश की शरहदों पे तैनात सेना और उसका दुश्मनों के आक्रमणों का करारा जबाब देना भी उचित नहीं है आपके गांधी वाद के विचार से तो शरहदों से सारा सना बल हटा लेना चाहिये और और दुशमन के बार सहने के लिये अंसन पर बैठ जाना चाहिये। जय भगत सिंह एक देश भक्त पारुल शर्मा"

Mahatma Gandhi 
आप कहते हैं कि अगर कोई एक गाल पे मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो, आपने कहा हिंसा से और रक्तपात से आजादी नहीं मिलेगी,भगत सिंह,राजगुरू,सुखदेव को फाँसी दी गयी तब आपन कहा--भगत सिंह और उनके साथियों को फांसी दी गई. वे अमर शहीद हो गए. उनकी मृत्यु बहुत से लोगों के लिए निजी क्षति की तरह है. मैं इन युवकों की स्मृति को नमन करता हूं. परंतु मैं देश के नवयुवकों को इस बात की चेतावनी देता हूं कि उनके पथ का अनुसरण नहीं करें. हमें अपनी ऊर्जा, आत्मोसर्ग की भावना, अपने श्रम और अपने अदम्य साहस का इस्तेमाल उनकी भांति नहीं करना चाहिए. इस देश की स्वतंत्रता रक्तपात से जरिए नहीं प्राप्त होनी चाहिए."यानी आपकी नजर में क्रांती का मार्ग अनुचित था जिसे आपने हिंसा का मार्ग कहा।
इस हिसाब से तो देश की शरहदों पे तैनात सेना और उसका दुश्मनों के आक्रमणों का करारा जबाब देना भी उचित नहीं है आपके गांधी वाद के विचार से तो शरहदों से सारा सना बल हटा लेना चाहिये और और दुशमन के बार सहने के लिये अंसन पर बैठ जाना चाहिये।
जय भगत सिंह 
एक देश भक्त 
पारुल शर्मा

बापू जी
आप कहते हैं कि अगर कोई एक गाल पे मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो, आपने कहा हिंसा से और रक्तपात से आजादी नहीं मिलेगी,भगत सिंह,राजगुरू,सुख

33 Love