Search Results for: दर्पण

  • All
  • People
  • Stories
  • Tags

Stories that match your search ...

More Results

#वो_उसकी_दीवानी
रचना:-#अर्श
तिथि:- 27-मार्च-2020
******************
इस खिड़की से सजनी देखे
उस खिड़की से सजना
देख देख के रैना बीते
बिन देखे ना

211 Love
17.5K Views
2 Share

हम "मुर्ख नही युग के दर्पण है,,,,,युग के मोती है,,युग की ज्यौती है,,,,,,,,हाँ हम"लक्ष्य को पाने के लिये गतिशील रहने वाले मुसाफिर है जिन्हे "

46 Love
1.8K Views
1 Share

दर्पण ही था ये दिल आखिर चटक गया.. समीर तिवारी

38 Love
2.1K Views
1 Share

हे पुस्तके तू ही तो दर्पण तू ही तो तर्पण तू ही मेरे कृपाण

122 Love
578 Views
1 Share

#SADlovestory ... साथ तुम्हारा छूट गया तो ख्वाब का दर्पण टूट गया तो ।। #sath tumhara chhot gaya to khwab ka darpan toot gaya to
#SAD #nojoto

10 Love
638 Views

# दर्पण में तेरे जीवन के बाति
जल बुझ तेरी यादें सताती... @Aarya Rathod @Suraj sagar Sagar

48 Love
570 Views

#दर्पण

22 Love
270 Views
7 Share

है यादों का मेरी खुला ये पिटारा
है तनहाइयों में यही इक सहारा
मैं जब भी इसे खोलकर देखती हूं
तो बीते दिनों की तरफ लौटती हूं

पुरानी वो तस्वीर

39 Love
390 Views

शहीदों की आवाज
चिता से शहीदों की आवाज आती है उठो साथियों तुमको जिंदगी बुलाती है मेरे चन्न सपने थे और प्राण बागी थे तेरी एक हंसी के लिए बने ब

32 Love
176 Views

"Aaj tujhko mere pyaar ka A poetry by Abhidev 💎"

Aaj tujhko mere pyaar ka  A poetry by Abhidev  💎

"आज तुझको मेरे प्यार का, मैं ये दर्पण दिखाने चला"

A poetry by Abhidev
@Indian @aakshu Khanna @K@nishk @Ramesh Chandra @Ajay Tiwari

21 Love
193 Views

"🎭 दर्पण "

🎭 दर्पण

#दर्पण

15 Love
102 Views

# दर्पण करे बेनकाब ،،،،،

6 Love
63 Views

#दर्पण

5 Love
31 Views

दिल के दर्पण

23 Love
137 Views

याद आती हैं उजड़े आशिया की
शायर ,,दर्पण,,,

12 Love
52 Views

"ये शायर बेवफ़ा नहीं हैं बेवफ़ा कोई और हैं मे तो जिस्म हु ,मुझमें जिंदा कोई ओर हैं ,,शायर दर्पण,,"

ये शायर बेवफ़ा नहीं हैं 
बेवफ़ा  कोई और हैं
मे तो जिस्म हु ,मुझमें जिंदा कोई ओर हैं 
,,शायर दर्पण,,

शायर दर्पण

15 Love
54 Views

"आंखो का दर्पण चाहिए...💞"

आंखो का दर्पण चाहिए...💞

#

10 Love
21 Views
1 Share

मैं दर्शन हूं मैं दर्पण हूं

3 Love
30 Views

शायर दर्पण ,,ग़ज़ल,,
मे पानी से लिखू ,या हवा से लिखू
जो तेरा नाम लिख दू ,तो मिटता नहीं हैं

9 Love
51 Views

#झील (कविता)

दूर क्षितिज तक पांव पसारे
दर्पण-सी फैली है झील
खेती रंग-बिरंगी नावें
चित्रकला सी लगती झील।
.
उन्नत पर्वत के शिखरों पर

17 Love
192 Views