Search Results for: sarabjit

  • All
  • People
  • Stories
  • Tags

Stories that match your search ...

More Results

""

"sarabjit filam bhauth achi lagi mujhe ek bhean ek bhai kye liye.pakisthan se ladti hai uss bhean kye sath kuch log sath dethye hai lekin pakisthan sarbjit ki lash dethye hain mujhe bad samjhe me aya a filam ek sachi kahani hai. jo sarabjit ki biopic bani hai sarabjit dekye mujhe he ithna bura laga hai toh socho uss pariwar pe kya biti hogi. pakisthan ko hum log doshi manthye hain. lekin ek aur biopic banegi jab hum log apne desh ko doshi mange. jo ab thak la patha hai. najeeb ek aur biopic math bano najeeb najeeb ko uss ghar se mila do A sarkar ko vinati kartha hun main dilse"

sarabjit filam bhauth achi lagi mujhe
ek bhean ek bhai kye liye.pakisthan se ladti hai
uss bhean kye sath kuch log sath dethye hai
lekin pakisthan sarbjit ki lash dethye hain
mujhe bad samjhe me aya a filam
ek sachi kahani hai. jo sarabjit ki biopic bani hai
sarabjit dekye mujhe he ithna bura laga hai toh
socho uss pariwar pe kya biti hogi.
pakisthan ko hum log doshi manthye hain.
lekin ek aur biopic banegi
jab hum log apne desh ko doshi mange.
jo ab thak la patha hai. najeeb
ek aur biopic math bano najeeb 
najeeb ko uss ghar se mila do 
A sarkar ko vinati kartha hun main dilse

dilse

7 Love

""

"वो जिसने तुझको भी नायब लिखा है,, झूठ ही सही पानी को शराब लिखा है।। जिसने जरा सा भी मुह यहां खोला है,, लोगो ने उसी को तो खराब लिखा है।। एक लिफाफे में चंद आंसू मिले हमको, उसने ये मेरे खत का जवाब लिखा है।। जहा से जी चाहे पढ़ लेना मेरे शेरो को, तुम्हे तो हर दफा ही नायब लिखा है।। कितना तड़पे है चार दीवारों से पूछना,, मैने सब पर नाखुनो से हिसाब लिखा है।। मैं तो तुम्हे फूल भी नही लिख पाया,, और लोगो ने तुम्हे शबाब लिखा है।। हीर रांझा लैला मजनू श्री फराह होंगे,, उसे बेगम कहा खुद को नवाब लिखा है।। लोगो ने उसी को तो खराब.......।।। #Sarabjit Zikr ek @√"

वो जिसने तुझको भी नायब लिखा है,,
झूठ ही सही पानी को शराब लिखा है।।

जिसने जरा सा भी मुह यहां खोला है,,
लोगो ने उसी को तो खराब लिखा है।।

एक लिफाफे में चंद आंसू मिले हमको,
उसने ये मेरे खत का जवाब लिखा है।।

जहा से जी चाहे पढ़ लेना मेरे शेरो को,
तुम्हे तो हर दफा ही नायब लिखा है।।

कितना तड़पे है चार दीवारों से पूछना,,
मैने सब पर नाखुनो से हिसाब लिखा है।।

मैं तो तुम्हे फूल भी नही लिख पाया,,
और लोगो ने तुम्हे शबाब लिखा है।।

हीर रांझा लैला मजनू श्री फराह होंगे,,
उसे बेगम कहा खुद को नवाब लिखा है।।

लोगो ने उसी को तो खराब.......।।।
#Sarabjit
Zikr ek @√

#Heart

12 Love
1 Share