#Sunset
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"रात होते ही फलक में तारो के वीच चाँद मेरी तरह तन्हा रोता होगा, तारों की हसीन महफ़िल में बिचारे चांद को कोन बुलाता होगा, यह चांद कैसे अपनी ही रोशनी से अपने आंसू छुपाता होगा, यह भी मेरी तरह जागता है रातो को नजाने किसकी यादों में यह सोता न होगा, मैं चुपके से निहारती हुँ इसको यह चाँद शरेआम मेरे चाँद को ताकता होगा, ✍️✍️suman...@"

रात होते ही फलक में तारो के 
वीच चाँद मेरी तरह तन्हा रोता होगा,

तारों की हसीन महफ़िल में
बिचारे चांद को कोन बुलाता होगा,

यह चांद कैसे अपनी ही 
रोशनी से अपने आंसू छुपाता होगा,

यह भी मेरी तरह जागता है रातो को
नजाने किसकी यादों में यह सोता न होगा,

मैं चुपके से निहारती हुँ इसको
यह चाँद शरेआम मेरे चाँद को ताकता होगा,
✍️✍️suman...@

 

289 Love
2 Share

""

"इधर 19 दिन लगातार तुमसे बात करने के बाद लगा कि हमारे अचानक बंदे संबंधों में  मीठी नर्म घास उगने लगी है यह लगने लगा कि इसकी ठंडी हरियाली ही थी वह जिसके लिए बरसों से आंखें धुंधली सी जल रही थी । और यह भी कि ज्यादा पास आने से टूट जाने वाली DOSTI बिना करीब से जाने पनपती नहीं। ये समझना अब थोड़ा मुश्किल है की इन 36 घण्टे की लगातार Chating के क्या खास कारण रहे होंगे।"

इधर 19 दिन
लगातार तुमसे बात करने के बाद 
लगा कि
हमारे अचानक बंदे संबंधों में 
मीठी नर्म घास उगने लगी है
यह लगने लगा कि
इसकी ठंडी हरियाली ही थी वह
जिसके लिए बरसों से आंखें 
धुंधली सी जल रही थी ।
और यह भी कि
ज्यादा पास आने से टूट जाने
 वाली DOSTI
बिना करीब से जाने पनपती नहीं।
ये समझना अब थोड़ा मुश्किल है
की इन 36 घण्टे की लगातार Chating
के क्या खास कारण रहे होंगे।

 

162 Love

""

"and i would still shine... even in the reflection of the oceans."

and i would still shine...
even in the reflection of the oceans.

 

127 Love

""

"Pyaar utna hi kro jitna bhula sko agr dil me rh gya na to zindagi barbad kr dega"

Pyaar utna hi kro jitna bhula sko agr dil me rh gya na to zindagi barbad kr dega

pyar itna hi kro jitna bhula sko...

113 Love
1 Share

""

"हौसले गर हो समर को जीत सकते हो,तूफान में भी तुम लकीरें खींच सकते हो। सूर्य की गति सा भुवन में घूम सकते हो,नक्षत्र-ग्रह के ताप को तुम झेल सकते हो। चलो अब चूकना छोड़ो,समर से पूछना छोड़ो,विजय स्वर्णिम कहानी से जगत को जीतना सीखों। जगत में व्याप्त अत्याचार का अवसान तुम कर दो,जगत में शांति और सद्भावना संचार तुम कर दो। युवा हो!युग युवा बनकर जगत में नाम अब कर दो,चलो इतिहास बनकर तुम अब इतिहास को लिख दो। धरा के धड़कनों में एक नया आयाम तुम भर दो,चलो अब कुछ कर गुजर जाओ जगत में नाम तुम कर दो।"

हौसले गर हो समर को जीत सकते हो,तूफान में भी तुम लकीरें खींच सकते हो।
सूर्य की गति सा भुवन में घूम सकते हो,नक्षत्र-ग्रह के ताप को तुम झेल सकते हो।
चलो अब चूकना छोड़ो,समर से पूछना छोड़ो,विजय स्वर्णिम कहानी से जगत को जीतना सीखों।
जगत में व्याप्त अत्याचार का अवसान तुम कर दो,जगत में शांति और सद्भावना संचार तुम कर दो।
युवा हो!युग युवा बनकर जगत में नाम अब कर दो,चलो इतिहास बनकर तुम अब इतिहास को लिख दो।
धरा के धड़कनों में एक नया आयाम तुम भर दो,चलो अब कुछ कर गुजर जाओ जगत में नाम तुम कर दो।

हे युवा!विजय स्वर्णिम कहानी से जगत को जीतना सीखों।

98 Love