कुछ टूटे हुए कांच के टुकड़ो सा दिल , कुछ बिखरे हुए

"कुछ टूटे हुए कांच के टुकड़ो सा दिल , कुछ बिखरे हुए से अल्फ़ाज़ , हृदय के भीतर तक कचोटता, मरोड़ता दर्द , आँखों में काजल की तरह सजता हुआ इंतिजार , कभी भी हिज्र में बरस पड़ते आंसूं, एक शाख से अलग हुई डाली , एक सूखा बिखरा हुआ सा गुलाब , एक लम्हे में थमी हुई घडी , एक भावनाओं से भरी पर कुछ न कह सकने वाली एक डायरी, एक उलझी हुई सी रौशनी की लड़ी , एक कागजों में बिखरी हुई स्याही , एक सच दिखाता दर्पण , और चेहरे पर सजती एक बनावटी सी मुस्कान , sonamkuril हम्म.. इन सब को मिलाकर बनती हुई सी मैं, और मेरे यादों का एडिट बॉक्स ."

कुछ टूटे हुए कांच के टुकड़ो सा दिल ,
कुछ बिखरे हुए से अल्फ़ाज़ ,
हृदय के भीतर तक कचोटता, मरोड़ता दर्द ,
आँखों में काजल की तरह सजता हुआ इंतिजार ,
कभी भी हिज्र में  बरस पड़ते आंसूं,
एक शाख से अलग हुई डाली ,
एक सूखा बिखरा हुआ सा गुलाब ,
एक लम्हे में थमी हुई घडी ,
एक भावनाओं से भरी पर कुछ न कह सकने वाली एक डायरी,
एक उलझी हुई सी रौशनी की लड़ी ,
एक कागजों में बिखरी हुई स्याही ,
एक सच दिखाता दर्पण ,
और चेहरे पर सजती एक बनावटी सी मुस्कान ,
                                sonamkuril
हम्म..
इन सब को मिलाकर बनती हुई सी मैं,
और मेरे यादों का एडिट बॉक्स .

कुछ टूटे हुए कांच के टुकड़ो सा दिल , कुछ बिखरे हुए से अल्फ़ाज़ , हृदय के भीतर तक कचोटता, मरोड़ता दर्द , आँखों में काजल की तरह सजता हुआ इंतिजार , कभी भी हिज्र में बरस पड़ते आंसूं, एक शाख से अलग हुई डाली , एक सूखा बिखरा हुआ सा गुलाब , एक लम्हे में थमी हुई घडी , एक भावनाओं से भरी पर कुछ न कह सकने वाली एक डायरी, एक उलझी हुई सी रौशनी की लड़ी , एक कागजों में बिखरी हुई स्याही , एक सच दिखाता दर्पण , और चेहरे पर सजती एक बनावटी सी मुस्कान , sonamkuril हम्म.. इन सब को मिलाकर बनती हुई सी मैं, और मेरे यादों का एडिट बॉक्स .

#editbox

People who shared love close

More like this