एक दिन इश्वर ने पूछा ये क्या जिसे मुझसे भी ज्यादा | हिंदी Poetry

"एक दिन इश्वर ने पूछा ये क्या जिसे मुझसे भी ज्यादा अहमियत दिये जा रहे हो! क्या है जिसकी इतनी जतन किये जा रहे हो! सुबह -सवरे ,शाम- दोपहर, भजन कीर्तन भूल गये तुम। अरे ये क्या है जिसे रस्मों - रिवाज से ज्यादा निभाये जा रहे हो! मेरा उत्तर - जिम्मेदारीयां, जो तूम हर दिन बढ़ाये जा रहे हो। ©Priyanka Mazumdar"

 एक दिन इश्वर ने पूछा 
ये क्या जिसे मुझसे भी ज्यादा अहमियत दिये जा रहे हो! 
क्या है जिसकी इतनी जतन किये जा रहे हो! 
सुबह -सवरे ,शाम- दोपहर, भजन कीर्तन भूल गये तुम। 
अरे ये क्या है जिसे रस्मों - रिवाज से ज्यादा निभाये जा रहे हो! 
मेरा उत्तर - जिम्मेदारीयां, जो तूम हर दिन बढ़ाये जा रहे हो।

©Priyanka Mazumdar

एक दिन इश्वर ने पूछा ये क्या जिसे मुझसे भी ज्यादा अहमियत दिये जा रहे हो! क्या है जिसकी इतनी जतन किये जा रहे हो! सुबह -सवरे ,शाम- दोपहर, भजन कीर्तन भूल गये तुम। अरे ये क्या है जिसे रस्मों - रिवाज से ज्यादा निभाये जा रहे हो! मेरा उत्तर - जिम्मेदारीयां, जो तूम हर दिन बढ़ाये जा रहे हो। ©Priyanka Mazumdar

#जिम्मेदारीयांतुम्हारी

People who shared love close

More like this

Trending Topic