लौ पे उतर रही होगी, फुलझड़ी तुम तो बिखर गई होंगी। ऐब -ए -रोशनी मलत...

लौ पे उतर रही होगी,

फुलझड़ी तुम तो बिखर गई होंगी।

ऐब -ए -रोशनी मलती हो क्या,

तुम शर्मीली हो क्या।।

लौ पे उतर रही होगी, फुलझड़ी तुम तो बिखर गई होंगी। ऐब -ए -रोशनी मलती हो क्या, तुम शर्मीली हो क्या।।

फुलझड़ी

People who shared love close

More like this