हमारे ज़माने में तो हमारे जमाने मे लोग सब भूल जाते | हिंदी शायरी

"हमारे ज़माने में तो हमारे जमाने मे लोग सब भूल जाते हैं.. इश्क़ नफरत के बीच फंसा के सब दूर जाते हैं.. हमारे जमाने में रिश्तों की परवाह लोग नही कर पाते हैं.. तभी तो नाजायज रिश्तों को वो निभाते हैं.. असली वजह जब दिलों को तोड़ने की सामने आती है.. वो बेवजह का विवाद है यह कहके सब भूल जाते हैं.. हमारे जमाने के लोग दिलों को तोड़ जाते हैं.. उनका खुद का वजूद ही नहीं रहता तभी तो उन्हें अकेले तड़पने के लिए लोग दुनिया में छोड़ जाते हैं(२)।। शायर-राहुल पटैरिया"

हमारे ज़माने में तो हमारे जमाने मे लोग सब भूल जाते हैं..
इश्क़ नफरत के बीच फंसा के सब दूर जाते हैं..
हमारे जमाने में रिश्तों की परवाह लोग नही कर पाते हैं..
तभी तो नाजायज रिश्तों को वो निभाते हैं..
असली वजह जब दिलों को तोड़ने की सामने आती है..
वो बेवजह का विवाद है यह कहके सब भूल जाते हैं..
हमारे जमाने के लोग दिलों को तोड़ जाते हैं..
उनका खुद का वजूद ही नहीं रहता तभी तो उन्हें अकेले तड़पने के लिए लोग दुनिया में छोड़ जाते हैं(२)।।
शायर-राहुल पटैरिया

हमारे ज़माने में तो हमारे जमाने मे लोग सब भूल जाते हैं.. इश्क़ नफरत के बीच फंसा के सब दूर जाते हैं.. हमारे जमाने में रिश्तों की परवाह लोग नही कर पाते हैं.. तभी तो नाजायज रिश्तों को वो निभाते हैं.. असली वजह जब दिलों को तोड़ने की सामने आती है.. वो बेवजह का विवाद है यह कहके सब भूल जाते हैं.. हमारे जमाने के लोग दिलों को तोड़ जाते हैं.. उनका खुद का वजूद ही नहीं रहता तभी तो उन्हें अकेले तड़पने के लिए लोग दुनिया में छोड़ जाते हैं(२)।। शायर-राहुल पटैरिया

#nojoto
#हमारे
#जमाने_के_लोग
@Avni annu LoVe YoU # @A@isha_rana @poetry by heart

People who shared love close

More like this