चंद घूंट सांसों के भरे है कप में सोचती हूँ पिऊ या

चंद घूंट सांसों के भरे है कप में
सोचती हूँ पिऊ या के नहीं
कोई है जो मेरी तकता होगा राह उस पार
पी लूँ गर तो जा सकूंगी वहाँ नहीं
कहने को बातें मीठी
शक्कर सांसों में घोल रखी
कह तो दूंगी उसको सभी
फिर सोचती हूँ समझेगा वो के नहीं

चंद घूंट सांसों के भरे है कप में सोचती हूँ पिऊ या के नहीं कोई है जो मेरी तकता होगा राह उस पार पी लूँ गर तो जा सकूंगी वहाँ नहीं कहने को बातें मीठी शक्कर सांसों में घोल रखी कह तो दूंगी उसको सभी फिर सोचती हूँ समझेगा वो के नहीं

चंद घूंट साँसें Nojoto Nojoto Hindi Hindinama Ankush Srivastava Laughing_soul

People who shared love close

More like this