पानी में जलन हवाओं में शिकन क्यों है. सहमा - सहमा हर आदमी एक दूसरे...

पानी में जलन हवाओं में शिकन क्यों है.
सहमा - सहमा हर आदमी एक दूसरे से जलन क्यों है.
कहते हैं बिगड़ी है मुल्क की तकदीर.
जिन्हें सियासत की चासनी में वैरागी नीलकंठ दिखते क्यों हैं.

अवध की रचनाएं

पानी में जलन हवाओं में शिकन क्यों है. सहमा - सहमा हर आदमी एक दूसरे से जलन क्यों है. कहते हैं बिगड़ी है मुल्क की तकदीर. जिन्हें सियासत की चासनी में वैरागी नीलकंठ दिखते क्यों हैं. अवध की रचनाएं

निलकंठ पानी में जलन हवाओं में शिकन क्यों है.
सहमा - सहमा हर आदमी एक दूसरे से जलन क्यों है.
कहते हैं बिगड़ी है मुल्क की तकदीर.
जिन्हें सियासत की चासनी में वैरागी नीलकंठ दिखते क्यों हैं.

#poem #kavita #Nojoto #Love #Emotion #Dil #पानी

People who shared love close

More like this