ज़िन्दगी जीने को : तल्ख़ हक़ीक़त कहने को : एक फसा | हिंदी शायरी

"ज़िन्दगी जीने को : तल्ख़ हक़ीक़त कहने को : एक फसाना ✍🏻 जन्नत"

ज़िन्दगी
जीने को : तल्ख़ हक़ीक़त
कहने को :  एक फसाना ✍🏻 जन्नत

ज़िन्दगी जीने को : तल्ख़ हक़ीक़त कहने को : एक फसाना ✍🏻 जन्नत

People who shared love close

More like this