झूठ हीं कहा किसी ने किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ? फ | हिंदी शायरी

"झूठ हीं कहा किसी ने किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ? फिर से दे कोई बद्दुआ गालिब शायद संवरने लगा हूँ मैं।"

झूठ हीं कहा किसी ने
किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ?
फिर से दे कोई बद्दुआ गालिब
शायद संवरने लगा हूँ मैं।

झूठ हीं कहा किसी ने किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ? फिर से दे कोई बद्दुआ गालिब शायद संवरने लगा हूँ मैं।

शायद संवरने लगा हूँ मैं 😐

People who shared love close

More like this