Riyaarth An Imagination my new Painting कभी कभी मै सोचती हूँ आशा के दीप जलाए तुम्हे ढूंढ़ रही हूँ  हे -गौतम बुद्ध  तुम ...एक भाव जरुर हो ......

Riyaarth An Imagination my new Painting कभी कभी मै सोचती हूँ आशा के दीप जलाए तुम्हे ढूंढ़ रही हूँ  हे -गौतम बुद्ध  तुम ...एक भाव जरुर हो .... पर पूर्ण कविता नहीं अपनी ही कैद से भागे खुले आसमान के नीचे क्या मिला वहाँ विचार,एहसास ..अनुभव... ज्ञान भी ...बाँट लेने को मानती हूँ मिला होगा बहुत कुछ ..... पर ज्ञान वो नहीं जो जो तुमने किताबो में लिख दिया और हमने पढ़ लिया || जन्म लिया था.. तो कम से कम उसे भोगते तो देखते ... कितने उतार चड़ाव है इस जीवन में जीवन वो नहीं जो तुमने जिया  एक पेड़ के नीचे ..... जीवन वो है जो एक औरत जीती है अपने परिवार के लिए माँ,बहन,बेटी और पत्नी बन के ... जीवन वो है जो एक भाई जीता है अपनी बहनों के लिए उनके सामने एक आदर्श रखने के लिए कर देता है खुद की इच्छायों का बलिदान एक परिवार को उनकी ख़ुशी देने के लिए जीवन वो है जहां चार बाते हो कुछ झगडा कुछ प्यार हो पति पत्नी में मान- मुनहार हो तकरार हो जहाँ .. इधर उधर की कह लेने से मन का गुबार निकल जाता है जैसे तैसे हँसते-खेलते लड़ते-झगड़ते ये समय भी खूब गुज़र जाता है  हे -गौतम बुद्ध  अफ़सोस है मुझे की एक मिले जीवन को तुमने यूँ ही व्यर्थ गँवा दिया देखे नहीं जीवन के सभी रंग और ज्ञान के शब्दों में संसार को बहा दिया Anu. Also Read about Art Quotes in Hindi, Art Shayari in Hindi, Art Poetry in Hindi, Art Poem in Hindi, Art Whatsapp Status in Hindi, Hindi Art Message, Art Post in Hindi, Hindi Art Post, Quotes on Art in Hindi, Shayari on Art in Hindi, Poetry on Art in Hindi, Poem about Art in Hindi, Poetry about Art in Hindi, Quotes about Art in Hindi, Shayari about Art in Hindi, Poem on Art in Hindi, Stories about Art in Hindi, Art Stories in Hindi, Stories on Art in Hindi, Whatsapp Status about Art in Hindi, Whatsapp Status on Art in Hindi, Art Message in Hindi, Hindi Art Jokes, Hindi Art Memes, Hindi Art Songs, Hindi Art Video, Pankaj Sammal, Pankaj Sammal Nojoto, Quotes, Shayari, Story, Poem, Jokes, Memes On Nojoto

Feedback & Ideas

Feedback & Ideas

X

How was your experience?

We would love to hear from you!

Pankaj Sammal

11 months ago

Riyaarth An Imagination
my new Painting
कभी कभी मै सोचती हूँ
आशा के दीप जलाए
तुम्हे ढूंढ़ रही हूँ 
हे -गौतम बुद्ध 
तुम ...एक भाव
जरुर हो ....
पर पूर्ण कविता नहीं
अपनी ही कैद से भागे
खुले आसमान के नीचे
क्या मिला वहाँ
विचार,एहसास ..अनुभव...
ज्ञान भी ...बाँट लेने को
मानती हूँ मिला होगा
बहुत कुछ .....
पर ज्ञान वो नहीं जो
जो तुमने
किताबो में लिख दिया
और हमने पढ़ लिया ||

जन्म लिया था..
तो
कम से कम उसे
भोगते तो
देखते ...
कितने उतार चड़ाव
है इस जीवन में
जीवन वो नहीं
जो तुमने जिया 
एक पेड़ के नीचे .....
जीवन वो है
जो एक औरत जीती है
अपने परिवार के लिए
माँ,बहन,बेटी और पत्नी
बन के ...
जीवन वो है जो
एक भाई जीता है
अपनी बहनों के लिए
उनके सामने एक आदर्श
रखने के लिए
कर देता है खुद की
इच्छायों का बलिदान
एक परिवार को
उनकी ख़ुशी देने
के लिए
जीवन वो है
जहां चार बाते हो
कुछ झगडा
कुछ प्यार हो
पति पत्नी में
मान- मुनहार हो
तकरार हो
जहाँ ..
इधर उधर की
कह लेने से
मन का गुबार
निकल जाता है
जैसे तैसे
हँसते-खेलते
लड़ते-झगड़ते
ये समय भी
खूब गुज़र जाता है 
हे -गौतम बुद्ध 
अफ़सोस है मुझे
की एक मिले जीवन को
तुमने यूँ ही
व्यर्थ गँवा दिया
देखे नहीं जीवन के सभी रंग
और ज्ञान के शब्दों में
संसार को बहा दिया
Anu

People who shared love close

More like this

×

Pankaj Sammal

11 months ago

Riyaarth An Imagination
my new Painting
कभी कभी मै सोचती हूँ
आशा के दीप जलाए
तुम्हे ढूंढ़ रही हूँ 
हे -गौतम बुद्ध 
तुम ...एक भाव
जरुर हो ....
पर पूर्ण कविता नहीं
अपनी ही कैद से भागे
खुले आसमान के नीचे
क्या मिला वहाँ
विचार,एहसास ..अनुभव...
ज्ञान भी ...बाँट लेने को
मानती हूँ मिला होगा
बहुत कुछ .....
पर ज्ञान वो नहीं जो
जो तुमने
किताबो में लिख दिया
और हमने पढ़ लिया ||

जन्म लिया था..
तो
कम से कम उसे
भोगते तो
देखते ...
कितने उतार चड़ाव
है इस जीवन में
जीवन वो नहीं
जो तुमने जिया 
एक पेड़ के नीचे .....
जीवन वो है
जो एक औरत जीती है
अपने परिवार के लिए
माँ,बहन,बेटी और पत्नी
बन के ...
जीवन वो है जो
एक भाई जीता है
अपनी बहनों के लिए
उनके सामने एक आदर्श
रखने के लिए
कर देता है खुद की
इच्छायों का बलिदान
एक परिवार को
उनकी ख़ुशी देने
के लिए
जीवन वो है
जहां चार बाते हो
कुछ झगडा
कुछ प्यार हो
पति पत्नी में
मान- मुनहार हो
तकरार हो
जहाँ ..
इधर उधर की
कह लेने से
मन का गुबार
निकल जाता है
जैसे तैसे
हँसते-खेलते
लड़ते-झगड़ते
ये समय भी
खूब गुज़र जाता है 
हे -गौतम बुद्ध 
अफ़सोस है मुझे
की एक मिले जीवन को
तुमने यूँ ही
व्यर्थ गँवा दिया
देखे नहीं जीवन के सभी रंग
और ज्ञान के शब्दों में
संसार को बहा दिया
Anu

More Like This

add
close Create Story Next

Tag Friends

camera_alt Add Photo
person_pin Mention
arrow_back PUBLISH
language

Language

 

Upload Your Video close