दांस्तान को दांस्तान ही कहने दो इसे आम न करो, रहने | हिंदी कविता Video

"दांस्तान को दांस्तान ही कहने दो इसे आम न करो, रहने दो ज़ज़्बातों को दिल मे उन्हें यूँ सरेआम न करो"

दांस्तान को दांस्तान ही कहने दो इसे आम न करो, रहने दो ज़ज़्बातों को दिल मे उन्हें यूँ सरेआम न करो

#pasandhai #Vedio #Emotion #Challange

People who shared love close

More like this