टूटता है तो बहुत चुभता है साहब क्या कांच ,क्या ख | हिंदी शायरी

"टूटता है तो बहुत चुभता है साहब क्या कांच ,क्या ख्वाब , क्या रिश्ता, क्या दिल...! pragati"

टूटता है तो बहुत चुभता है साहब
 क्या कांच ,क्या  ख्वाब ,
क्या रिश्ता, क्या दिल...!
pragati

टूटता है तो बहुत चुभता है साहब क्या कांच ,क्या ख्वाब , क्या रिश्ता, क्या दिल...! pragati

People who shared love close

More like this