फल, फूल, और हरी भरी जवानी को पाकर -फूल मत जाना , | हिंदी शायरी

"फल, फूल, और हरी भरी जवानी को पाकर -फूल मत जाना , बाप ने बचपन को खून पसीने से सींचा था , -उसे भूल मत जाना ।"

फल, फूल, और हरी भरी जवानी को पाकर 
-फूल मत जाना ,
बाप ने बचपन को खून पसीने से सींचा था ,
-उसे भूल मत जाना ।

फल, फूल, और हरी भरी जवानी को पाकर -फूल मत जाना , बाप ने बचपन को खून पसीने से सींचा था , -उसे भूल मत जाना ।

@Lafz-e-faridi @MAHI @Jyoti Yadav @Harender Prasad @Anil Kumar
#nojoto #Love#father

People who shared love close

More like this