english हमेशा attitude में रही आजाद भारत पर रौब दि | हिंदी कविता

"english हमेशा attitude में रही आजाद भारत पर रौब दिखा रही थी अंग्रेजो से तो आजादी ले ली भारत ने पर अंग्रेजी अपना ली ये कैसी आजादी थी भावनायें तो भारतीय पर शब्द english हो चले थे । भारत आजादी का जश्न मना रहा था english जोरों से smlile कर रही थी और हिंदी की तरफ देख कर इतरा रही थी उस वक्त english के तेवर कुछ अच्छे नहीं थे अब भारत पूरी तरह से India बन चुका था और अब आजादी का जश्न भारत और India दोनों ही मनारहे थे। पर हिन्दी उदास थी उसे आजादी की कम खुशी न थी पर भारत भारत रह कर आजादी मनाता तो आजादी 1000 गुना और बढ़ जाती । हिन्दी ने आजादी की जंग सुरू की पर उसकी सुनवाई नहीं हुई। लोगों के english के मद ने उसकी आवाज दबा दी और आज भी परिस्थिती जस की तस है हिन्दी आज भी आजाद भारत में आजादी की जंग लड़ रही हैं है न कितने बिडब्ना की बात कि हिंन्दी को अपने ही देश में अपने लिये अपने लोगों से लड़ना पड़ रहा है। आप हिन्दी के लिये किसी हिन्दी दिवस का इंतजार न करें और हक से कहें कि हम भारतीय है और हिंदी है हिन्दी हमारे दिल की भाषा है इसे सम्मान से अपनायें और सम्मान दें। अगर आप दो चार या 10 या और अधिक भाषायें जानते त कोई गलत बात नहीं है पर दोगला व्वहार न करे हिन्दी से किनारा या हिन्दी का अपमान या फिर हिन्दी को कम आँकना जैसे दुर्वव्यहार से बचे हिन्दी ही हमारी भाषा है और english विदेशी इस बात को हमेशा याद रखें गैरो के लिये अपनों को तकलीफ न पहुँचायें। पारुल शर्मा जय हिन्द जय हिन्दी वंदे मातरम्"

english हमेशा attitude में रही आजाद भारत पर रौब दिखा रही थी अंग्रेजो से तो आजादी ले ली भारत ने पर अंग्रेजी अपना ली ये कैसी आजादी थी भावनायें तो भारतीय पर शब्द english हो चले थे । भारत आजादी का जश्न मना रहा था english जोरों से smlile कर रही थी और हिंदी की तरफ देख कर इतरा रही थी उस वक्त english के तेवर कुछ अच्छे नहीं थे अब भारत पूरी तरह से India बन चुका था और अब आजादी का जश्न भारत और India दोनों ही मनारहे थे। पर हिन्दी उदास थी उसे आजादी की कम खुशी न थी पर भारत भारत रह कर आजादी मनाता तो आजादी 1000 गुना और बढ़ जाती । हिन्दी ने आजादी की जंग सुरू की पर उसकी सुनवाई नहीं हुई। लोगों के english के मद ने उसकी आवाज दबा दी और आज भी परिस्थिती जस की तस है हिन्दी आज भी आजाद भारत में आजादी की जंग लड़ रही हैं है न कितने बिडब्ना की बात कि हिंन्दी को अपने ही देश में अपने लिये अपने लोगों से लड़ना पड़ रहा है। 
आप हिन्दी के लिये किसी हिन्दी दिवस का इंतजार न करें और हक से कहें कि हम भारतीय है और हिंदी है हिन्दी हमारे दिल की भाषा है इसे सम्मान से अपनायें और सम्मान दें। अगर आप दो चार या 10 या और अधिक भाषायें जानते त कोई गलत बात नहीं है पर दोगला व्वहार न करे हिन्दी से किनारा या हिन्दी का अपमान या फिर हिन्दी को कम आँकना जैसे दुर्वव्यहार से बचे हिन्दी ही हमारी भाषा है और english विदेशी इस बात को हमेशा याद रखें गैरो के लिये अपनों को तकलीफ न पहुँचायें।
पारुल शर्मा
               जय हिन्द जय हिन्दी 
वंदे मातरम्

english हमेशा attitude में रही आजाद भारत पर रौब दिखा रही थी अंग्रेजो से तो आजादी ले ली भारत ने पर अंग्रेजी अपना ली ये कैसी आजादी थी भावनायें तो भारतीय पर शब्द english हो चले थे । भारत आजादी का जश्न मना रहा था english जोरों से smlile कर रही थी और हिंदी की तरफ देख कर इतरा रही थी उस वक्त english के तेवर कुछ अच्छे नहीं थे अब भारत पूरी तरह से India बन चुका था और अब आजादी का जश्न भारत और India दोनों ही मनारहे थे। पर हिन्दी उदास थी उसे आजादी की कम खुशी न थी पर भारत भारत रह कर आजादी मनाता तो आजादी 1000 गुना और बढ़ जाती । हिन्दी ने आजादी की जंग सुरू की पर उसकी सुनवाई नहीं हुई। लोगों के english के मद ने उसकी आवाज दबा दी और आज भी परिस्थिती जस की तस है हिन्दी आज भी आजाद भारत में आजादी की जंग लड़ रही हैं है न कितने बिडब्ना की बात कि हिंन्दी को अपने ही देश में अपने लिये अपने लोगों से लड़ना पड़ रहा है। आप हिन्दी के लिये किसी हिन्दी दिवस का इंतजार न करें और हक से कहें कि हम भारतीय है और हिंदी है हिन्दी हमारे दिल की भाषा है इसे सम्मान से अपनायें और सम्मान दें। अगर आप दो चार या 10 या और अधिक भाषायें जानते त कोई गलत बात नहीं है पर दोगला व्वहार न करे हिन्दी से किनारा या हिन्दी का अपमान या फिर हिन्दी को कम आँकना जैसे दुर्वव्यहार से बचे हिन्दी ही हमारी भाषा है और english विदेशी इस बात को हमेशा याद रखें गैरो के लिये अपनों को तकलीफ न पहुँचायें। पारुल शर्मा जय हिन्द जय हिन्दी वंदे मातरम्

english बनाम हिन्दी @Poonam bagadia "punit" g @imrohii negi g
english हमेशा attitude में रही आजाद भारत पर रौब दिखा रही थी अंग्रेजो से तो आजादी ले ली भारत ने पर अंग्रेजी अपना ली ये कैसी आजादी थी भावनायें तो भारतीय पर शब्द english हो चले थे । भारत आजादी का जश्न मना रहा था english जोरों से smlile कर रही थी और हिंदी की तरफ देख कर इतरा रही थी उस वक्त english के तेवर कुछ अच्छे नहीं थे अब भारत पूरी तरह से India बन चुका था और अब आजादी का जश्न भारत और India दोनों ही मनारहे थे। पर हिन्दी उदास थी उसे आजादी की कम खुशी न थी पर भारत भारत रह कर आजादी मनाता तो आजादी 1000 गुना और बढ़ जाती । हिन्दी ने आजादी की जंग सुरू की पर उसकी सुनवाई नहीं हुई। लोगों के english के मद ने उसकी आवाज दबा दी और आज भी परिस्थिती जस की तस है हिन्दी आज भी आजाद भारत में आजादी की जंग लड़ रही हैं है न कितने बिडब्ना की बात कि हिंन्दी को अपने ही देश में अपने लिये अपने लोगों से लड़ना पड़ रहा है।
आप हिन्दी के लिये किसी हिन्दी दिवस का इंतजार न करें और हक से कहें कि हम भारतीय है और हिंदी है हिन्दी हमारे दिल की भाषा है इसे सम्मान से अपनायें और सम्मान दें। अगर आप दो चार या 10 या और अधिक भाषायें जानते त कोई गलत बात नहीं है पर दोगला व्वहार न करे हिन्दी से किनारा या हिन्दी का अपमान या फिर हिन्दी को कम आँकना जैसे दुर्वव्यहार से बचे हिन्दी ही हमारी भाषा है और english विदेशी इस बात को हमेशा याद रखें गैरो के लिये अपनों को तकलीफ न पहुँचायें।
जय हिन्द जय हिन्दी
वंदे मातरम्
#स्वतंत्र #जयहिन्द #वंदेमातरम् #देश #वतन #भारत #हिंदोस्तान #India#देशभक्ति#Deshbhakti#Independence#azaad
#2liner
#Nojotohindi#Nojoto#Nojotoquotes#Nojotoofficial#hindi#Shayari#hindipoetry#Poetry#sher#हिन्दीकविता#शेर#शायर#कविता#रचना#h#kavishala#hindipoet#TST#kalakash#Faiziqbalsay#Motivation#kavi#kavishala#kavi#English
#कवि#Life#शायर#कवि#Life#जीवन#हिन्दी#
#इश्क #मोहब्बत #प्यार #Love

People who shared love close

More like this