ए सियासत की बाते हैं, मेरे यारो जरा सोचो जो कल तक कर रहे थे, शाही ...

ए सियासत की बाते हैं, मेरे यारो जरा सोचो 
जो कल तक कर रहे थे, शाही तसव्वुर की बाते 
अब कहने लगे हैं पकोड़े बेचो

- स्वप्निल माने

ए सियासत की बाते हैं, मेरे यारो जरा सोचो जो कल तक कर रहे थे, शाही तसव्वुर की बाते अब कहने लगे हैं पकोड़े बेचो - स्वप्निल माने

People who shared love close

More like this