हाँ माना हमने की मोहन राधा भी संग नहीं.. पर मोहब्ब | हिंदी Shayari

"हाँ माना हमने की मोहन राधा भी संग नहीं.. पर मोहब्बत ही है न यार ये कोई जंग नहीं.. ऐसे कैसे तोड़ दे रिश्ते हल्के हवा के झोंके से.. रिश्ते हैं प्यार के कोई कटी हुई पतंग नहीं.. लगता है बड़ी बेरंग थी शाहजहाँ की मोहब्बत... तभी तो देखो की ताज में भी कोई रंग नहीं.."

हाँ माना हमने की मोहन राधा भी संग नहीं..
पर मोहब्बत ही है न यार ये कोई जंग नहीं..

ऐसे कैसे तोड़ दे रिश्ते हल्के हवा के झोंके से..
रिश्ते हैं प्यार के कोई कटी हुई पतंग नहीं..

लगता है बड़ी बेरंग थी शाहजहाँ की मोहब्बत...
तभी तो देखो की ताज में भी कोई रंग नहीं..

हाँ माना हमने की मोहन राधा भी संग नहीं.. पर मोहब्बत ही है न यार ये कोई जंग नहीं.. ऐसे कैसे तोड़ दे रिश्ते हल्के हवा के झोंके से.. रिश्ते हैं प्यार के कोई कटी हुई पतंग नहीं.. लगता है बड़ी बेरंग थी शाहजहाँ की मोहब्बत... तभी तो देखो की ताज में भी कोई रंग नहीं..

#nojotohindi #hindipoetry #Shayari #Quotes #lovequotes #awaargi #sher

People who shared love close

More like this