बचपन और लोरी मां की लोरी, सुलाने का मुझे एक मीठा

"बचपन और लोरी मां की लोरी, सुलाने का मुझे एक मीठा बहाना था इसे सुने बिना मेरी नींद का कहां अाना था.. लोरी में छुपा प्यार था गोंद मे प्यार की गरमाहट थी.. बाहों में भरकर, रातो को बैठकर मां हजारो बाते किया करती थी मां की गोद मे सिर रख सोना मानो सब दुख भूलकर ठंडी हवा का होना .. आज भी मां की गोद मे सिर रख सो लिया करती हूँ जब रखती है वो सिर पर हाथ मेरे तब हौंसला न कभी हारने की हिम्मत किया करती हूँ.. Love you so much Maa"

बचपन और लोरी मां की लोरी, सुलाने का मुझे 
एक मीठा बहाना था 
इसे सुने बिना मेरी नींद का कहां अाना था.. 
लोरी में  छुपा प्यार था
गोंद मे प्यार की गरमाहट थी.. 
बाहों में भरकर, रातो को बैठकर
मां हजारो बाते किया करती थी 
मां की गोद मे सिर रख सोना 
मानो 
सब दुख भूलकर ठंडी हवा का होना ..
आज भी मां की गोद मे सिर रख सो लिया करती हूँ
जब रखती है वो सिर पर हाथ मेरे 
तब 
हौंसला न कभी हारने की हिम्मत किया करती हूँ.. 
Love you so much Maa

बचपन और लोरी मां की लोरी, सुलाने का मुझे एक मीठा बहाना था इसे सुने बिना मेरी नींद का कहां अाना था.. लोरी में छुपा प्यार था गोंद मे प्यार की गरमाहट थी.. बाहों में भरकर, रातो को बैठकर मां हजारो बाते किया करती थी मां की गोद मे सिर रख सोना मानो सब दुख भूलकर ठंडी हवा का होना .. आज भी मां की गोद मे सिर रख सो लिया करती हूँ जब रखती है वो सिर पर हाथ मेरे तब हौंसला न कभी हारने की हिम्मत किया करती हूँ.. Love you so much Maa

#BachpanAurLori ##Love you Maa 😘😘💖

People who shared love close

More like this