"ना ज़ाहिर हुई तुमसे ना बयाँ हु..." Poetry By देवल कुमार | Nojoto

ना ज़ाहिर हुई तुमसे ना बयाँ हुई हमसे, बस सुलझी हुई आँखों में उलझी रही मुहब्बत.. . Follow देवल कुमार. Download Nojoto App to get real time updates about देवल कुमार & be part of World's Largest Creative Community to share Writing, Poetry, Quotes, Art, Painting, Music, Singing, and Photography; A Creative expression platform. Poetry By देवल कुमार | Nojoto Poetry on Poetry. Poetry Poetry

Story

3 months ago
ना ज़ाहिर हुई तुमसे ना बयाँ हुई हमसे,
बस सुलझी हुई आँखों में उलझी रही मुहब्बत..
TAGS

People who shared love close

देवल कुमार

Written By : देवल कुमार

चांद को ढूँढे पागल सूरज, शाम को ढूँढे सवेरा मैं भी ढूँढूँ उस प्रीतम को, हो ना सका जो मेरा

×
add
arrow_back Select Collection SHARE
language
 
Create New Collection

Upload Your Video close