कुछ भी कर लो, कितना भी कर लो, कोई न कोई कमी रह ही | हिंदी Shayari

"कुछ भी कर लो, कितना भी कर लो, कोई न कोई कमी रह ही जाएगी। ज़िंदगी में अनसुलझी पहलुओं का भी हिस्सा है। जब उलझेगी तो सुलझ भी जाएगी।"

कुछ भी कर लो, कितना भी कर लो,
कोई न कोई कमी रह ही जाएगी।
ज़िंदगी में अनसुलझी पहलुओं का भी हिस्सा है।
जब उलझेगी तो सुलझ भी जाएगी।

कुछ भी कर लो, कितना भी कर लो, कोई न कोई कमी रह ही जाएगी। ज़िंदगी में अनसुलझी पहलुओं का भी हिस्सा है। जब उलझेगी तो सुलझ भी जाएगी।

ज़िंदगी में अनसुलझे पहलुओं का भी हिस्सा है....
(समस्या भी हमारे जीवन का ही एक अंग है, अतः इसे स्वीकार करें और जीवनरूपी यात्रा के मार्ग में अग्रसर हों।)
#khushithought
#khushikandu
#Shayari
#Quotes
#Lines
#writer
#Shayar
#Poet
#Hindi
#thought
#vichar
#post
#blog

People who shared love close

More like this