एहसास-ए-मसर्रत को ग़ौर फ़रमाइये, दिल नहीं भरा अभी, क

"एहसास-ए-मसर्रत को ग़ौर फ़रमाइये, दिल नहीं भरा अभी, कहीं मत जाइये।"

एहसास-ए-मसर्रत को ग़ौर फ़रमाइये,
दिल नहीं भरा अभी, कहीं मत जाइये।

एहसास-ए-मसर्रत को ग़ौर फ़रमाइये, दिल नहीं भरा अभी, कहीं मत जाइये।

feeling of happiness | #surmayeeshayar @reena uikey @Shalu Kumari @Satyaprem @Urvi Poonia @Arun Raina

People who shared love close

More like this