चाहत का दिलासा देकर मेरे दिल से खेला था उसने ,

"चाहत का दिलासा देकर मेरे दिल से खेला था उसने , पसंद आने पर कोई ओर मेरा दिल तोड़ा था उसने ।। ishaqzaade"

चाहत का दिलासा देकर 

मेरे दिल से खेला था उसने ,

पसंद आने पर कोई ओर

मेरा दिल तोड़ा था उसने ।।

 ishaqzaade

चाहत का दिलासा देकर मेरे दिल से खेला था उसने , पसंद आने पर कोई ओर मेरा दिल तोड़ा था उसने ।। ishaqzaade

People who shared love close

More like this