तू इन फरेबीयों की बातों में मत आ, उन करीबियों की य | हिंदी शायरी

"तू इन फरेबीयों की बातों में मत आ, उन करीबियों की यादों में मत आ, ऐ अश्क बरसातें घने बादल तू ग़म भूलती चाँदनी रातों में मत आ। -Aadi..."

तू इन फरेबीयों की बातों में मत आ,
उन करीबियों की यादों में मत आ,
ऐ अश्क बरसातें घने बादल
तू ग़म भूलती चाँदनी रातों में मत आ।


-Aadi...

तू इन फरेबीयों की बातों में मत आ, उन करीबियों की यादों में मत आ, ऐ अश्क बरसातें घने बादल तू ग़म भूलती चाँदनी रातों में मत आ। -Aadi...

तू इन फरेबीयों की बातों में मत आ,
उन करीबियों की यादों में मत आ,
ऐ अश्क बरसातें घने बादल
तू ग़म भूलती चाँदनी रातों में मत आ।

People who shared love close

More like this