A writer is blessed because एक लेखक धन्य है क्योंक

"A writer is blessed because एक लेखक धन्य है क्योंकि वो बांटने तोड़ने की बात नहीं करता है बल्कि उसके द्धारा की गई हर एक बातों में दो दिलों को जोड़ने का जज्बा होता है एक दूसरे की सहायता सहयोग करते हुये स्नेह प्रेम बन्धुत्व सदभाव के साथ जीवन में आगे बढने का भाव छिपा होता है वो अपने भावनाओं की अभिव्यक्ति नि स्वार्थ भाव से करता है न की किसी के दबाव में और न ही पैसें के प्रभाव में करता है अपने राष्ट्र व समाज के विकास व निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देना ही वो बेस्ट व सर्वश्रेष्ठ समझता है मानवता इंसानियत की वो बात करता है साफ नीयत के साथ नेक राह पर वो चलता है और तो और उसके पास भले ही धन दौलत संपत्ति व जमा पूंजी न भी हो फिर भी वो किसी कीमती हीरे से काम नहीं होता है क्योंकि उसने अपने पूरे जीवन काल में दो दिलों को जोड़कर इतना पुण्य कामना लिया होता है जिसके आगे आज के युग की भौतिक चीजों का कोई मोल नहीं रह जाता है। -Sunil Kumar Sharma"

A writer is blessed because एक लेखक धन्य है क्योंकि वो बांटने तोड़ने की बात नहीं करता है बल्कि उसके द्धारा की गई हर एक बातों में दो दिलों को जोड़ने का जज्बा होता है एक दूसरे की सहायता सहयोग करते हुये स्नेह प्रेम बन्धुत्व सदभाव के साथ जीवन में आगे बढने का भाव छिपा होता है वो अपने भावनाओं की अभिव्यक्ति नि स्वार्थ भाव से करता है न की किसी के दबाव में और न ही पैसें के प्रभाव में करता है अपने राष्ट्र व समाज के विकास व निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देना ही वो बेस्ट व सर्वश्रेष्ठ समझता है मानवता इंसानियत की वो बात करता है साफ नीयत के साथ नेक राह पर वो चलता है और तो और उसके पास भले ही धन दौलत संपत्ति व जमा पूंजी न भी हो फिर भी वो किसी कीमती हीरे से काम नहीं होता है क्योंकि उसने अपने पूरे जीवन काल में दो दिलों को जोड़कर इतना पुण्य कामना लिया होता है जिसके आगे आज के युग की भौतिक चीजों का कोई मोल नहीं रह जाता है।


-Sunil Kumar Sharma

A writer is blessed because एक लेखक धन्य है क्योंकि वो बांटने तोड़ने की बात नहीं करता है बल्कि उसके द्धारा की गई हर एक बातों में दो दिलों को जोड़ने का जज्बा होता है एक दूसरे की सहायता सहयोग करते हुये स्नेह प्रेम बन्धुत्व सदभाव के साथ जीवन में आगे बढने का भाव छिपा होता है वो अपने भावनाओं की अभिव्यक्ति नि स्वार्थ भाव से करता है न की किसी के दबाव में और न ही पैसें के प्रभाव में करता है अपने राष्ट्र व समाज के विकास व निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देना ही वो बेस्ट व सर्वश्रेष्ठ समझता है मानवता इंसानियत की वो बात करता है साफ नीयत के साथ नेक राह पर वो चलता है और तो और उसके पास भले ही धन दौलत संपत्ति व जमा पूंजी न भी हो फिर भी वो किसी कीमती हीरे से काम नहीं होता है क्योंकि उसने अपने पूरे जीवन काल में दो दिलों को जोड़कर इतना पुण्य कामना लिया होता है जिसके आगे आज के युग की भौतिक चीजों का कोई मोल नहीं रह जाता है। -Sunil Kumar Sharma

#nojotohindi #Storie #एक #लेखक #धन्य #है........................................

People who shared love close

More like this