में रुठ गई थी खुद से, मानने लगी हुँ ख़ुदको फिर से,

में रुठ गई थी खुद से, 
मानने लगी हुँ ख़ुदको फिर से,
खामोश जुबा-दिल मे 
चुभन दबा रही थी कबसे..,
आस सी जागने लगी हुँ
अब से..,
रास्ते मे छोड़ गए थे,
लोग मुझको तन्हा,
दिल न लगूंगी कभी वादा
 निभा रही थी कब से...!

शायद हां इश्क़ करने
लगी हुँ मैं अबसे...*@!

में रुठ गई थी खुद से, मानने लगी हुँ ख़ुदको फिर से, खामोश जुबा-दिल मे चुभन दबा रही थी कबसे.., आस सी जागने लगी हुँ अब से.., रास्ते मे छोड़ गए थे, लोग मुझको तन्हा, दिल न लगूंगी कभी वादा निभा रही थी कब से...! शायद हां इश्क़ करने लगी हुँ मैं अबसे...*@!

#Confession letter to inner self
#nojotohindi
#nojotolif
#CTL
#anjaliverma

People who shared love close

More like this