रंग हवा के संग रंगों ने पा लिया है हवाओं का सं | हिंदी Shayari

"रंग हवा के संग रंगों ने पा लिया है हवाओं का संग। आजा बिखेर दूँ मैं तुझमें रंग। हवाओं ने पहन रखी है रंगीन ओढ़नी। आजा तुझे पहना दूँ चाँद की चाँदनी। एक हवा के झोखे ने मेरे कानों में, धीरे से फुस फुसाया है। महसूस करूँ उसे वो किसी की, मुसकान लेकर आया है। नदियों में लहरें झूम उठी हैं, इन हवाओं के सहारे। किनारे आकर जैसे कह रही हों, कोई पास आ रहा है तुम्हारे। बारिश की बूँदें मुझे कुछ, इस कदर भिगा रही हैं। जैसे मधुमक्खियाँ अपने छत्ते पर, फूलों का रस सजा रही हैं। पहुंच चुका हूँ मैं मोहब्बत की, इतनी गहराइयों में। जब सुनाई पड़ रही हो तेरे लफ्जों की धुन, तब क्या मजा शहनाइयों में। #NojotoQuote"

रंग हवा के संग  
 
रंगों ने पा लिया है हवाओं का संग।
 आजा बिखेर दूँ मैं तुझमें रंग।
हवाओं ने पहन रखी है रंगीन ओढ़नी।
आजा तुझे पहना दूँ चाँद की चाँदनी।
एक हवा के झोखे ने मेरे कानों में,
धीरे से फुस फुसाया है।
 महसूस करूँ उसे वो किसी की,
मुसकान लेकर आया है।
नदियों में लहरें झूम उठी हैं,
इन हवाओं के सहारे।
 किनारे आकर जैसे कह रही हों,
कोई पास आ रहा है तुम्हारे।
बारिश की बूँदें मुझे कुछ,
इस कदर भिगा रही हैं।
 जैसे मधुमक्खियाँ अपने छत्ते पर,
फूलों का रस सजा रही हैं।
 पहुंच चुका हूँ मैं मोहब्बत की,
इतनी गहराइयों में।
जब सुनाई पड़ रही हो तेरे लफ्जों की धुन,
तब क्या मजा शहनाइयों में। #NojotoQuote

रंग हवा के संग रंगों ने पा लिया है हवाओं का संग। आजा बिखेर दूँ मैं तुझमें रंग। हवाओं ने पहन रखी है रंगीन ओढ़नी। आजा तुझे पहना दूँ चाँद की चाँदनी। एक हवा के झोखे ने मेरे कानों में, धीरे से फुस फुसाया है। महसूस करूँ उसे वो किसी की, मुसकान लेकर आया है। नदियों में लहरें झूम उठी हैं, इन हवाओं के सहारे। किनारे आकर जैसे कह रही हों, कोई पास आ रहा है तुम्हारे। बारिश की बूँदें मुझे कुछ, इस कदर भिगा रही हैं। जैसे मधुमक्खियाँ अपने छत्ते पर, फूलों का रस सजा रही हैं। पहुंच चुका हूँ मैं मोहब्बत की, इतनी गहराइयों में। जब सुनाई पड़ रही हो तेरे लफ्जों की धुन, तब क्या मजा शहनाइयों में। #NojotoQuote

#nojotohindi #Shayari #Love #Holi

People who shared love close

More like this