आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ म

"आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं , जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं"

आ  कि  तुझ  बिन  इस  तरह  ऐ  दोस्त  घबराता  हूँ  मैं  , जैसे  हर  शय  में  किसी  शय  की  कमी  पाता  हूँ  मैं

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं , जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं

Follow mee

People who shared love close

More like this