बचपन और शैतानी आओ दोस्तों तुम्हें सुनाऊ अपने बचपन | हिंदी शायरी

"बचपन और शैतानी आओ दोस्तों तुम्हें सुनाऊ अपने बचपन की कहानी, आज बताउगा तुम्हें मैं कितनी करता था शैतानी, रोज रात को देर से घर में आना, पापा की मार से बचने के लिए दादी के पीछे छिप जाना, वो स्कूल में दोस्तों को चिढ़ाना, फिर रात को भूतों की कहानी सुना कर भाई बहनो को डरना, वो दिवाली पर पटाके चलाना, वो होली पर किसी को भी रंग लगा कर भाग जाना, याद करके वो बचपन की कहानी, सच कहुँ यारो आ जाता है मेरी आँखों में पानी |"

बचपन और शैतानी आओ दोस्तों तुम्हें सुनाऊ अपने बचपन की कहानी, 
आज बताउगा तुम्हें मैं कितनी करता था शैतानी, 
रोज रात को देर से घर में आना, 
पापा की मार से बचने के लिए दादी के पीछे छिप जाना, 
वो स्कूल में दोस्तों को चिढ़ाना, 
फिर रात को भूतों की कहानी सुना कर भाई बहनो को डरना, 
वो दिवाली पर पटाके चलाना, 
वो होली पर किसी को भी रंग लगा कर भाग जाना, 
याद करके वो बचपन की कहानी, 
 सच कहुँ यारो आ जाता है मेरी आँखों में पानी |

बचपन और शैतानी आओ दोस्तों तुम्हें सुनाऊ अपने बचपन की कहानी, आज बताउगा तुम्हें मैं कितनी करता था शैतानी, रोज रात को देर से घर में आना, पापा की मार से बचने के लिए दादी के पीछे छिप जाना, वो स्कूल में दोस्तों को चिढ़ाना, फिर रात को भूतों की कहानी सुना कर भाई बहनो को डरना, वो दिवाली पर पटाके चलाना, वो होली पर किसी को भी रंग लगा कर भाग जाना, याद करके वो बचपन की कहानी, सच कहुँ यारो आ जाता है मेरी आँखों में पानी |

@pooja negi# @Binacajain Binujain @Babita Pandey @Gori Shizuka

People who shared love close

More like this