मैं कहने ही वाला था, पर वो हमेशा की तरह, हंसते हु | हिंदी कहानी

"मैं कहने ही वाला था, पर वो हमेशा की तरह, हंसते हुए बोली , "क्या सोच में पड़ जाते हो तुम भी ?" अमन और छाया, बचपन से संग रहने वाले दोस्त। यहाँ अमन अपना दिल दे बैठा जाने कब छाया को ,मगर उससे कुछ कह ना पाया । उसे डर था कि कहीं, प्यार के चक्कर में वो दोस्त भी ना खो दे , हमेशा कहते कहते चुप हो जाता था । "एक दिन जब कोई और छाया को लेकर जाऐगा तो वो उसके बिना कैसे रहेगा?" सोच में पड़े अमन ने छाया का हाथ पकड़ा और बोला , "तुम मुझे छोड़कर तो नहीं जाओगी ना छाया " ? "नहीं कभी भी नहीं यार ,तू तो मेरी जान है" कहकर वो अमन के गले लग कर रो पड़ी। " कभी नहीं अमन,कभी कुछ ना कहना , बस यूँ ही सवाल पर सवाल पूछा करते हो , वो जो आँखों में भरा है जुबां पर क्यों नहीं लाते ?" हैरान सा अमन ,मानो सारे जहाँ की हिम्मत जुटा कर बोला, "मैं कहने ही वाला था मगर ,कहीं तुमको हमेशा के लिए खो ना दूं बस इसलिए कह नहीं पाता था। " कुछ यूँ आज अधूरी बात पूरी की अमन ने ।"

मैं कहने ही वाला था, पर वो हमेशा की तरह,
 हंसते हुए बोली , "क्या सोच में पड़ जाते हो तुम भी ?"
अमन और छाया, बचपन से संग रहने वाले दोस्त। 
यहाँ अमन अपना दिल दे बैठा जाने कब छाया को ,मगर उससे कुछ कह ना पाया ।
उसे डर था कि कहीं, प्यार के चक्कर में वो दोस्त भी ना खो दे , 
हमेशा कहते कहते चुप हो जाता था ।
"एक दिन जब कोई और छाया को लेकर जाऐगा तो वो उसके बिना कैसे रहेगा?" 
सोच में पड़े अमन ने छाया का हाथ पकड़ा और बोला ,
"तुम मुझे छोड़कर तो नहीं जाओगी ना छाया " ? "नहीं कभी भी नहीं यार ,तू तो मेरी जान है" 
कहकर वो अमन के गले लग कर रो पड़ी। "
कभी नहीं अमन,कभी कुछ ना कहना , बस यूँ ही सवाल पर सवाल पूछा करते हो , 
वो जो आँखों में भरा है जुबां पर क्यों नहीं लाते ?"
हैरान सा अमन ,मानो सारे जहाँ की हिम्मत जुटा कर बोला, 
"मैं कहने ही वाला था मगर ,कहीं तुमको हमेशा के लिए खो ना दूं 
बस  इसलिए कह नहीं पाता था। "
कुछ यूँ आज अधूरी बात पूरी की अमन ने ।

मैं कहने ही वाला था, पर वो हमेशा की तरह, हंसते हुए बोली , "क्या सोच में पड़ जाते हो तुम भी ?" अमन और छाया, बचपन से संग रहने वाले दोस्त। यहाँ अमन अपना दिल दे बैठा जाने कब छाया को ,मगर उससे कुछ कह ना पाया । उसे डर था कि कहीं, प्यार के चक्कर में वो दोस्त भी ना खो दे , हमेशा कहते कहते चुप हो जाता था । "एक दिन जब कोई और छाया को लेकर जाऐगा तो वो उसके बिना कैसे रहेगा?" सोच में पड़े अमन ने छाया का हाथ पकड़ा और बोला , "तुम मुझे छोड़कर तो नहीं जाओगी ना छाया " ? "नहीं कभी भी नहीं यार ,तू तो मेरी जान है" कहकर वो अमन के गले लग कर रो पड़ी। " कभी नहीं अमन,कभी कुछ ना कहना , बस यूँ ही सवाल पर सवाल पूछा करते हो , वो जो आँखों में भरा है जुबां पर क्यों नहीं लाते ?" हैरान सा अमन ,मानो सारे जहाँ की हिम्मत जुटा कर बोला, "मैं कहने ही वाला था मगर ,कहीं तुमको हमेशा के लिए खो ना दूं बस इसलिए कह नहीं पाता था। " कुछ यूँ आज अधूरी बात पूरी की अमन ने ।

#Adhuri_baat #kahaniya #nojotoquotesforall #nojotowritersclub #nojotohindi #Anshulathakur #ishq #Love #feelings #storytelling

People who shared love close

More like this