दुनिया की हदों से आज़ाद हूँ मैं, सँभलकर पढ़ना किताब | हिंदी Shayari

"दुनिया की हदों से आज़ाद हूँ मैं, सँभलकर पढ़ना किताब हूँ मैं।। ©dp"

दुनिया की हदों से आज़ाद हूँ मैं,
सँभलकर पढ़ना किताब हूँ मैं।।
                                ©dp

दुनिया की हदों से आज़ाद हूँ मैं, सँभलकर पढ़ना किताब हूँ मैं।। ©dp

#nojotohindi #nojotoquote #Shayari #sher #deepakpremi #Book #kitaab #azaad

People who shared love close

More like this