मन बंजारा सा दिल आवारा सा, मुझको तो था बस एक तेर | हिंदी कविता

"मन बंजारा सा दिल आवारा सा, मुझको तो था बस एक तेरा सहारा सा, तेरे बिना अब फिरता हूँ मैं राहों में मारा मारा सा, कर लिया हमने एक बार अब ना होगा ये इश्क दोबारा सा।।"

मन बंजारा सा  दिल आवारा सा, मुझको तो था बस 
एक तेरा सहारा सा,

तेरे बिना अब फिरता हूँ  
मैं राहों में मारा मारा सा, 

कर लिया हमने एक बार 
अब ना होगा ये इश्क दोबारा सा।।

मन बंजारा सा दिल आवारा सा, मुझको तो था बस एक तेरा सहारा सा, तेरे बिना अब फिरता हूँ मैं राहों में मारा मारा सा, कर लिया हमने एक बार अब ना होगा ये इश्क दोबारा सा।।

#banjara #74

People who shared love close

More like this