कितने ही जुड़ते रहते हैं, कोई तुम-सा न जुड़ पाया .. | हिंदी कविता

"कितने ही जुड़ते रहते हैं, कोई तुम-सा न जुड़ पाया ...."

कितने ही जुड़ते रहते हैं,

कोई तुम-सा न जुड़ पाया ....

कितने ही जुड़ते रहते हैं, कोई तुम-सा न जुड़ पाया ....

#attachment #feelings #Emotion #nojoto #nojotolife #nojotohindi

People who shared love close

More like this