कोई गम हैं जो मेरे अंदर पलने लगा है, शाम का सूरज ध

"कोई गम हैं जो मेरे अंदर पलने लगा है, शाम का सूरज धीरे धीरे ढलने लगा है। - Dileep Kumar"

कोई गम हैं जो मेरे अंदर पलने लगा है,
शाम का सूरज धीरे धीरे ढलने लगा है।
- Dileep Kumar

कोई गम हैं जो मेरे अंदर पलने लगा है, शाम का सूरज धीरे धीरे ढलने लगा है। - Dileep Kumar

@Satyaprem @Kavita Gautam @Princy verma @नयनसी परमार @Deepika Dubey #Nojoto #Nojotohindi #kavishala #Love #Quotes #Poetry #Nojotokhabri #TST #kalakaksh #ajnbisays #ajnbithought #ajnbithoughts #dileepkumar #hindiwriters #rekhta #janu #theajnbi

People who shared love close

More like this