कारीगर हूँ साहब 'अल्फ़ाज़ो' की मिट्टी से 'महफ़िल

"कारीगर हूँ साहब 'अल्फ़ाज़ो' की मिट्टी से 'महफ़िलों' को सजाता हूँ, कुछ को बेकार' कुछ को 'कलाकार' नज़र आता हूँ, ___________________________ मौहम्मद इब्राहीम सुल्तान मिर्जा,,"

कारीगर हूँ साहब 'अल्फ़ाज़ो' की मिट्टी से

 'महफ़िलों' को सजाता हूँ,

कुछ को बेकार' कुछ को 'कलाकार' नज़र

आता हूँ,
___________________________

मौहम्मद इब्राहीम सुल्तान मिर्जा,,

कारीगर हूँ साहब 'अल्फ़ाज़ो' की मिट्टी से 'महफ़िलों' को सजाता हूँ, कुछ को बेकार' कुछ को 'कलाकार' नज़र आता हूँ, ___________________________ मौहम्मद इब्राहीम सुल्तान मिर्जा,,

People who shared love close

More like this