फौजी:- सुनो! तुम्हें डर नहीं लगता? पत्नी:- किस बात | हिंदी Stories

"फौजी:- सुनो! तुम्हें डर नहीं लगता? पत्नी:- किस बात का? फौजी:- गर इस बार नहीं लौटा, तो? पत्नी:- सुनो (खीजकर)! मैं बड़ी शान से मोहल्ले में कहती फिरूँगी कि "मैंने अपनी चुनरी का सारा रंग तुमसब के दुपट्टों में घोला है" फौजी:- (गर्व से) "तू अपने फौजी की पक्की फौजन है। चल इसी बात पर एक झप्पी तो दे" पत्नी:- (शरमा कर) चलो हटो भी, तुमको तो बस मौका चाहिए"

फौजी:- सुनो! तुम्हें डर नहीं लगता?
पत्नी:- किस बात का?

फौजी:- गर इस बार नहीं लौटा, तो?
पत्नी:- सुनो (खीजकर)!  मैं बड़ी शान से मोहल्ले में कहती फिरूँगी कि "मैंने अपनी चुनरी का सारा रंग तुमसब के दुपट्टों में घोला है"
फौजी:- (गर्व से) "तू अपने फौजी की पक्की फौजन है।

चल इसी बात पर एक झप्पी तो दे"
पत्नी:- (शरमा कर) चलो हटो भी, तुमको तो बस मौका चाहिए

फौजी:- सुनो! तुम्हें डर नहीं लगता? पत्नी:- किस बात का? फौजी:- गर इस बार नहीं लौटा, तो? पत्नी:- सुनो (खीजकर)! मैं बड़ी शान से मोहल्ले में कहती फिरूँगी कि "मैंने अपनी चुनरी का सारा रंग तुमसब के दुपट्टों में घोला है" फौजी:- (गर्व से) "तू अपने फौजी की पक्की फौजन है। चल इसी बात पर एक झप्पी तो दे" पत्नी:- (शरमा कर) चलो हटो भी, तुमको तो बस मौका चाहिए

लघुकथा:-फौजन #Arsh #story #Love #Emotion #army #Force #India #proud #nation #Country #sacrifice #SAD #Pain #wife #Man

People who shared love close

More like this