My unique tribute to my fav actor rishi kapoor RIP

"My unique tribute to my fav actor rishi kapoor RIP🙏 कपूर एंड सन्स(2016) के चिंटू जी(2009) एक ज़िंदादिल(1975), बड़े दिलवाला(1983), शेरदिल(1990) और अजूबा(1991) धरती पुत्र(1993) थे जो ऑल इज़ वेल(2015) कहते हुए मुल्क(2018) को कुछ खट्टी कुछ मीठी(2001) अनमोल(1993) कसक(1992) देकर खेल खेल में(1975) रफ़ूचक्कर(1975) हो गए। कभी कभी(1976) कहते थे कि आपके दीवाने (1980) हैं, बीवी-ओ-बीवी(1981) लेकिन हम किसी से कम नहीं(1976) और ज़माने को दिखाना है(1991) कि दुनिया मेरी जेब में(1976) है, लेकिन अनजाने में(1978), नसीब(1981) के बदलते रिश्ते(1978) ने उन्हें अग्निपथ(2012) पर चलाकर क़ातिलों के क़ातिल(1981) कैंसर के हथियार(1989) से फ़ना(2006) कर दिया। टेल मी ओ ख़ुदा(2011) कुछ तो है(2002) दुनिया(1984) का कर्ज़(1980), जो धन दौलत(1980), खज़ाना(1987) या अमीरी-ग़रीबी(1990) से परे है, जिसे जब तक है जान(2012) राजू चाचा(2000), अमर अकबर एंथोनी, राजा(1975), दामिनी(1993), साधना(1993), बॉबी(1973), जिनी और जॉनी(1976), ईना मीना डीका(1994), पति पत्नी और वो(1978), तवायफ़(1988), हिना(1991), बड़े घर की बेटी(1989), चाँदनी(1989), बंजारन(1991) या कुली(1983), सभी को आन और शान(1984), दोस्ती दुश्मनी(1986) भूल कर डी-डे(2013) तक चुकाना है। जाते जाते कह गए- साहिबान(1993), भले मेरा नाम जोकर(1970) है, आप झूठा कहीं का(1979) कह सकते हैं लेकिन x कोई स्टूडेंट ऑफ द ईयर(2012) नक़ाब(1989) ओढ़ कर लव के चक्कर में(2006) या मुहब्बत की आरज़ू(1994) में शुद्ध देसी रोमांस(2013) कर श्रीमान आशिक़(1993)की तरह दीदार-ए-यार(1982) के लिए दीवाना(1992) होकर पटियाला हाउस(2011), दिल्ली-6(2009) में दो प्रेमी(1980) लैला- मजनूँ(1976) के जनम जनम(1988) के प्रेम योग(1994) पर कुछ सच्चा कुछ झूठा(1997) प्रेम ग्रंथ(1996) लिख रहा है। ये है जलवा(2002) गुरुदेव(1993) ऋषि साहब का जो 102 नॉट आउट(2018) नहीं बना पाए लेकिन ये वादा रहा(1982) कि श्री 420(1955) से लेकर द बॉडी(2019) तक के उनके फिल्मी सफ़र के हर नगीना(1986) और रंगीला रतन(1976) को सदियाँ(2010) याद करेंगी। ओम शांति ओम(2007)🙏; जय हिंद(1999)🇮🇳"

My unique tribute to my fav actor rishi kapoor RIP🙏

कपूर एंड सन्स(2016) के चिंटू जी(2009) एक ज़िंदादिल(1975), बड़े दिलवाला(1983), शेरदिल(1990) और अजूबा(1991) धरती पुत्र(1993) थे जो ऑल इज़ वेल(2015) कहते हुए मुल्क(2018) को कुछ खट्टी कुछ मीठी(2001) अनमोल(1993) कसक(1992) देकर खेल खेल में(1975) रफ़ूचक्कर(1975) हो गए। कभी कभी(1976) कहते थे कि आपके दीवाने (1980) हैं, बीवी-ओ-बीवी(1981) लेकिन हम किसी से कम नहीं(1976) और ज़माने को दिखाना है(1991) कि दुनिया मेरी जेब में(1976) है, लेकिन अनजाने में(1978), नसीब(1981) के बदलते रिश्ते(1978) ने उन्हें अग्निपथ(2012) पर चलाकर क़ातिलों के क़ातिल(1981) कैंसर के हथियार(1989) से फ़ना(2006) कर दिया। टेल मी ओ ख़ुदा(2011) कुछ तो है(2002) दुनिया(1984) का कर्ज़(1980), जो धन दौलत(1980), खज़ाना(1987) या अमीरी-ग़रीबी(1990) से परे है, जिसे जब तक है जान(2012) राजू चाचा(2000), अमर अकबर एंथोनी, राजा(1975), दामिनी(1993), साधना(1993), बॉबी(1973),  जिनी और जॉनी(1976), ईना मीना डीका(1994), पति पत्नी और वो(1978), तवायफ़(1988), हिना(1991), बड़े घर की बेटी(1989), चाँदनी(1989), बंजारन(1991) या कुली(1983), सभी को आन और शान(1984), दोस्ती दुश्मनी(1986) भूल कर डी-डे(2013) तक चुकाना है। जाते जाते कह गए- साहिबान(1993), भले मेरा नाम जोकर(1970) है, आप झूठा कहीं का(1979) कह सकते हैं लेकिन x कोई स्टूडेंट ऑफ द ईयर(2012) नक़ाब(1989) ओढ़ कर  लव के चक्कर में(2006) या मुहब्बत की आरज़ू(1994) में शुद्ध देसी रोमांस(2013) कर श्रीमान आशिक़(1993)की तरह दीदार-ए-यार(1982) के लिए दीवाना(1992) होकर  पटियाला हाउस(2011), दिल्ली-6(2009) में दो प्रेमी(1980) लैला- मजनूँ(1976) के जनम जनम(1988) के प्रेम योग(1994) पर  कुछ सच्चा कुछ झूठा(1997) प्रेम ग्रंथ(1996) लिख रहा है। ये है जलवा(2002) गुरुदेव(1993) ऋषि साहब का जो 102 नॉट आउट(2018) नहीं बना पाए लेकिन ये वादा रहा(1982) कि श्री 420(1955) से लेकर द बॉडी(2019) तक के उनके फिल्मी सफ़र के हर नगीना(1986) और रंगीला रतन(1976) को सदियाँ(2010) याद करेंगी।
ओम शांति ओम(2007)🙏; जय हिंद(1999)🇮🇳

My unique tribute to my fav actor rishi kapoor RIP🙏 कपूर एंड सन्स(2016) के चिंटू जी(2009) एक ज़िंदादिल(1975), बड़े दिलवाला(1983), शेरदिल(1990) और अजूबा(1991) धरती पुत्र(1993) थे जो ऑल इज़ वेल(2015) कहते हुए मुल्क(2018) को कुछ खट्टी कुछ मीठी(2001) अनमोल(1993) कसक(1992) देकर खेल खेल में(1975) रफ़ूचक्कर(1975) हो गए। कभी कभी(1976) कहते थे कि आपके दीवाने (1980) हैं, बीवी-ओ-बीवी(1981) लेकिन हम किसी से कम नहीं(1976) और ज़माने को दिखाना है(1991) कि दुनिया मेरी जेब में(1976) है, लेकिन अनजाने में(1978), नसीब(1981) के बदलते रिश्ते(1978) ने उन्हें अग्निपथ(2012) पर चलाकर क़ातिलों के क़ातिल(1981) कैंसर के हथियार(1989) से फ़ना(2006) कर दिया। टेल मी ओ ख़ुदा(2011) कुछ तो है(2002) दुनिया(1984) का कर्ज़(1980), जो धन दौलत(1980), खज़ाना(1987) या अमीरी-ग़रीबी(1990) से परे है, जिसे जब तक है जान(2012) राजू चाचा(2000), अमर अकबर एंथोनी, राजा(1975), दामिनी(1993), साधना(1993), बॉबी(1973), जिनी और जॉनी(1976), ईना मीना डीका(1994), पति पत्नी और वो(1978), तवायफ़(1988), हिना(1991), बड़े घर की बेटी(1989), चाँदनी(1989), बंजारन(1991) या कुली(1983), सभी को आन और शान(1984), दोस्ती दुश्मनी(1986) भूल कर डी-डे(2013) तक चुकाना है। जाते जाते कह गए- साहिबान(1993), भले मेरा नाम जोकर(1970) है, आप झूठा कहीं का(1979) कह सकते हैं लेकिन x कोई स्टूडेंट ऑफ द ईयर(2012) नक़ाब(1989) ओढ़ कर लव के चक्कर में(2006) या मुहब्बत की आरज़ू(1994) में शुद्ध देसी रोमांस(2013) कर श्रीमान आशिक़(1993)की तरह दीदार-ए-यार(1982) के लिए दीवाना(1992) होकर पटियाला हाउस(2011), दिल्ली-6(2009) में दो प्रेमी(1980) लैला- मजनूँ(1976) के जनम जनम(1988) के प्रेम योग(1994) पर कुछ सच्चा कुछ झूठा(1997) प्रेम ग्रंथ(1996) लिख रहा है। ये है जलवा(2002) गुरुदेव(1993) ऋषि साहब का जो 102 नॉट आउट(2018) नहीं बना पाए लेकिन ये वादा रहा(1982) कि श्री 420(1955) से लेकर द बॉडी(2019) तक के उनके फिल्मी सफ़र के हर नगीना(1986) और रंगीला रतन(1976) को सदियाँ(2010) याद करेंगी। ओम शांति ओम(2007)🙏; जय हिंद(1999)🇮🇳

#Heart #tribute🙏 #RishiKapoor😢 #sad😔 #Nojoto

People who shared love close

More like this