काश देख पाता उस दर्द को कोई, जो हसीं के पीछे छुपी

"काश देख पाता उस दर्द को कोई, जो हसीं के पीछे छुपी रही । सुन पाता उस आवाज को कोई, शहर के शोर सराबों में जो दबी रही । महसूस किसी ने जो किया होता , जज्बातों के उस समंदर को । तो हृदय विदारक दृश्य ना होता, ना देखना पड़ता इस मंजर को । मासूम सी थी चाहत तेरी , कुछ बड़े अनोखे सपने थे । थे बाकी बस कहने भर को , पर कुछ तो तेरे अपने थे । हमारे बिहार की शान थे तुम, हम जैसों की तो जान थे तुम । कहने वाले कुछ भी कह ले, हम तो बस यही हैं मानते । हैं राजपूत तो बहुतेरे, पर तुम सचमुच के योद्धा थे। We will always love you Sushant ❤️❤️ -Supriya Bharati."

काश देख पाता उस दर्द को कोई,
जो हसीं के पीछे छुपी रही ।
सुन पाता उस आवाज को कोई,
शहर के शोर सराबों में जो दबी रही ।

महसूस किसी ने जो किया होता ,
जज्बातों के उस समंदर को ।
तो हृदय विदारक दृश्य ना होता,
ना देखना पड़ता इस मंजर को ।

मासूम सी थी चाहत तेरी ,
कुछ बड़े अनोखे सपने थे ।
थे बाकी बस कहने भर को ,
पर कुछ तो तेरे अपने थे ।

हमारे बिहार की शान थे तुम,
हम जैसों की तो जान थे तुम ।
कहने वाले कुछ भी कह ले,
हम तो बस यही हैं मानते ।
हैं राजपूत तो बहुतेरे,
पर तुम सचमुच के योद्धा थे।

We will always love you Sushant ❤️❤️

-Supriya Bharati.

काश देख पाता उस दर्द को कोई, जो हसीं के पीछे छुपी रही । सुन पाता उस आवाज को कोई, शहर के शोर सराबों में जो दबी रही । महसूस किसी ने जो किया होता , जज्बातों के उस समंदर को । तो हृदय विदारक दृश्य ना होता, ना देखना पड़ता इस मंजर को । मासूम सी थी चाहत तेरी , कुछ बड़े अनोखे सपने थे । थे बाकी बस कहने भर को , पर कुछ तो तेरे अपने थे । हमारे बिहार की शान थे तुम, हम जैसों की तो जान थे तुम । कहने वाले कुछ भी कह ले, हम तो बस यही हैं मानते । हैं राजपूत तो बहुतेरे, पर तुम सचमुच के योद्धा थे। We will always love you Sushant ❤️❤️ -Supriya Bharati.

#sushant#loveyouforever

People who shared love close

More like this