तुम थी, तुम्हारी हंसी थी और मेरी ख़ुशी थी बताओ | हिंदी Poem

"तुम थी, तुम्हारी हंसी थी और मेरी ख़ुशी थी बताओ उन खुशियों को फ़िर मेरे घर लौट आने दोगी क्या मेरे साथ इक नया दुनिया बसाओगी या मेरा ये ख़ाब फ़िर खाक कर दोगी क्या..."

तुम थी, तुम्हारी हंसी थी
और मेरी ख़ुशी थी 
बताओ उन खुशियों को फ़िर मेरे 
घर लौट आने दोगी क्या
मेरे साथ इक नया दुनिया बसाओगी
या मेरा ये ख़ाब 
फ़िर खाक कर दोगी क्या...

तुम थी, तुम्हारी हंसी थी और मेरी ख़ुशी थी बताओ उन खुशियों को फ़िर मेरे घर लौट आने दोगी क्या मेरे साथ इक नया दुनिया बसाओगी या मेरा ये ख़ाब फ़िर खाक कर दोगी क्या...

#nojoto #Love #poem #Poetry #nojotohindi #Lovequotes #sahilbhardwaj #Hindi #Life #खुशी #दुनिया #ख़ाब #हिंदी

People who shared love close

More like this