बरसों से सींचा था इश्क़-ए-दरख़्त को संग-ए-नसीब उड़ा गया पत्ते मोहब्बत...

बरसों से सींचा था इश्क़-ए-दरख़्त को
संग-ए-नसीब उड़ा गया पत्ते मोहब्बत के।।
#राज़ #NojotoQuote

बरसों से सींचा था इश्क़-ए-दरख़्त को संग-ए-नसीब उड़ा गया पत्ते मोहब्बत के।। #राज़ #NojotoQuote

People who shared love close

More like this