#क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं । नोटः यह कहानी लोकस्मृति और कथाओं से प्रेरित है जिसका लोग आज भी दावा करते है । एक समय की बात ...

#क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं । नोटः यह कहानी लोकस्मृति और कथाओं से प्रेरित है जिसका लोग आज भी दावा करते है । एक समय की बात है जब रेगिस्तानी बीहड़ो में आबादी बहुत कम हुआ करती थी । वहाँ जंगली जीवो का डेरा हुआ करता था वोह भी र्रेगिस्तानी जिव जोह बहुत ही खूंखार प्रवर्ति के होते थे उन सबमे एक जिव जिसका नाम 'फेडिकाल' थोड़ा अजीब पर आज भी पच्चिमी राजस्थान के आम लोग इस नाम से अच्छी तरह से परिचित है ।अभी इन जीवो का कही पता नहीं है पर लोग कहते थे कि उनकी आवाज से ही लोगो की हालत खस्ता हो जाती थी ।वोह जिव इतने पावरफुल थे की शेर को भी चित कर लेते थे । उनकी आहट हमेशा रात के समय ही होती थी । वैसे उन्हें दुर्भाग्य का संदेशवाहक माना जाता था । जब लोग उनकी झपट में आते तोह उनका बचना ना मुंकिन होता था ।मेने अपने नाना से उनके बारे में कही किस्से सुने थे जिसमें उसकी कही बार शिकारियों से शिकार के लिए लड़ाई हो जाती थी । इन सबसे भयानक बात उनकी आवाज जोह किसी का भी ह्दय सील दे ।उनकी मुह से एक लार निकलती थी जोह आग थी हां वोह दूर से आग की तरह ही चमकती थी । वोह जिव जिस घर के सामने बोलता था उस घर से किसी की मुरतुय तय होती थी इसलिए लोग उन्हें मौत का दूत कहा करते थे । आप सबको उन जीवो के बारे में जानना बहुत जरुरी है ऐसे जिव जोह हमारी जनसँख्या से पहले जहा आज हम रहते है वहां रहते थे। वोह जिव जोह रात मैं 12-3 बजे तक अपना निर्दय खेल खेलते थे । उनके बारे में यह भी कहा जाता था कि वोह उड़ सकते थे और खून उनकी खुराख थी।. Also Read about Books Quotes in Hindi, Books Shayari in Hindi, Books Poetry in Hindi, Books Poem in Hindi, Books Whatsapp Status in Hindi, Hindi Books Message, Books Post in Hindi, Hindi Books Post, Quotes on Books in Hindi, Shayari on Books in Hindi, Poetry on Books in Hindi, Poem about Books in Hindi, Poetry about Books in Hindi, Quotes about Books in Hindi, Shayari about Books in Hindi, Poem on Books in Hindi, Stories about Books in Hindi, Books Stories in Hindi, Stories on Books in Hindi, Whatsapp Status about Books in Hindi, Whatsapp Status on Books in Hindi, Books Message in Hindi, Hindi Books Jokes, Hindi Books Memes, Hindi Books Songs, Hindi Books Video, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Quotes in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Shayari in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Poetry in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Poem in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Whatsapp Status in Hindi, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Message, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Post in Hindi, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Post, Quotes on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Shayari on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Poetry on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Poem about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Poetry about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Quotes about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Shayari about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Poem on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Stories about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Stories in Hindi, Stories on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Whatsapp Status about क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, Whatsapp Status on क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं in Hindi, क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Message in Hindi, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Jokes, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Memes, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Songs, Hindi क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं Video, Dashrath Singh, Dashrath Singh Nojoto, Quotes, Shayari, Story, Poem, Jokes, Memes On Nojoto

Feedback & Ideas

Feedback & Ideas

X

How was your experience?

We would love to hear from you!

#क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं
नोटः यह कहानी लोकस्मृति और कथाओं से प्रेरित है
जिसका लोग आज भी दावा करते है ।
एक समय की बात है जब रेगिस्तानी बीहड़ो में आबादी बहुत कम हुआ करती थी । वहाँ जंगली जीवो का डेरा हुआ करता था वोह भी र्रेगिस्तानी जिव जोह बहुत ही खूंखार प्रवर्ति के होते थे उन सबमे एक जिव जिसका नाम 'फेडिकाल' थोड़ा अजीब पर आज भी पच्चिमी राजस्थान के आम लोग इस नाम से अच्छी तरह से परिचित है ।अभी इन जीवो का कही पता नहीं है पर लोग कहते थे कि उनकी आवाज से ही लोगो की हालत खस्ता हो जाती थी ।वोह जिव इतने पावरफुल थे की शेर को भी चित कर लेते थे । उनकी आहट हमेशा रात के समय ही होती थी । वैसे उन्हें दुर्भाग्य का संदेशवाहक माना जाता था । जब लोग उनकी झपट में आते तोह उनका बचना ना मुंकिन होता था ।मेने अपने नाना से उनके बारे में कही किस्से सुने थे जिसमें उसकी कही बार शिकारियों से शिकार के लिए लड़ाई हो जाती थी । इन सबसे भयानक बात उनकी आवाज जोह किसी का भी ह्दय सील दे ।उनकी मुह से एक लार निकलती थी जोह आग थी हां वोह दूर से आग की तरह ही चमकती थी । वोह जिव जिस घर के सामने बोलता था उस घर से किसी की मुरतुय तय होती थी इसलिए लोग उन्हें मौत का दूत कहा करते थे । आप सबको उन जीवो के बारे में जानना बहुत जरुरी है ऐसे जिव जोह हमारी जनसँख्या से पहले जहा आज हम रहते है वहां रहते थे। वोह जिव जोह रात मैं 12-3 बजे तक अपना निर्दय खेल खेलते थे । उनके बारे में यह भी कहा जाता था कि वोह उड़ सकते थे और खून उनकी खुराख थी।

People who shared love close

More like this

×

#क्रप्या_इसे_पढ़े_और_अपनी_राय_दे_ऐसे_जिव_होते_है_या_नहीं
नोटः यह कहानी लोकस्मृति और कथाओं से प्रेरित है
जिसका लोग आज भी दावा करते है ।
एक समय की बात है जब रेगिस्तानी बीहड़ो में आबादी बहुत कम हुआ करती थी । वहाँ जंगली जीवो का डेरा हुआ करता था वोह भी र्रेगिस्तानी जिव जोह बहुत ही खूंखार प्रवर्ति के होते थे उन सबमे एक जिव जिसका नाम 'फेडिकाल' थोड़ा अजीब पर आज भी पच्चिमी राजस्थान के आम लोग इस नाम से अच्छी तरह से परिचित है ।अभी इन जीवो का कही पता नहीं है पर लोग कहते थे कि उनकी आवाज से ही लोगो की हालत खस्ता हो जाती थी ।वोह जिव इतने पावरफुल थे की शेर को भी चित कर लेते थे । उनकी आहट हमेशा रात के समय ही होती थी । वैसे उन्हें दुर्भाग्य का संदेशवाहक माना जाता था । जब लोग उनकी झपट में आते तोह उनका बचना ना मुंकिन होता था ।मेने अपने नाना से उनके बारे में कही किस्से सुने थे जिसमें उसकी कही बार शिकारियों से शिकार के लिए लड़ाई हो जाती थी । इन सबसे भयानक बात उनकी आवाज जोह किसी का भी ह्दय सील दे ।उनकी मुह से एक लार निकलती थी जोह आग थी हां वोह दूर से आग की तरह ही चमकती थी । वोह जिव जिस घर के सामने बोलता था उस घर से किसी की मुरतुय तय होती थी इसलिए लोग उन्हें मौत का दूत कहा करते थे । आप सबको उन जीवो के बारे में जानना बहुत जरुरी है ऐसे जिव जोह हमारी जनसँख्या से पहले जहा आज हम रहते है वहां रहते थे। वोह जिव जोह रात मैं 12-3 बजे तक अपना निर्दय खेल खेलते थे । उनके बारे में यह भी कहा जाता था कि वोह उड़ सकते थे और खून उनकी खुराख थी।

More Like This

add
close Create Story Next

Tag Friends

camera_alt Add Photo
person_pin Mention
arrow_back PUBLISH
language

Language

 

Upload Your Video close