कपड़ों की दुकान से दूर चंद सिक्कों को गिनते-गिनते,

"कपड़ों की दुकान से दूर चंद सिक्कों को गिनते-गिनते,, एक गरीब की आंखों में मैंने ईद को मरते देखा है..."

कपड़ों की दुकान से दूर चंद सिक्कों को गिनते-गिनते,,

एक गरीब की आंखों में मैंने ईद को मरते देखा है...

कपड़ों की दुकान से दूर चंद सिक्कों को गिनते-गिनते,, एक गरीब की आंखों में मैंने ईद को मरते देखा है...

#today #Emotions #feelings #kavishala #nojoto

People who shared love close

More like this