लहराती जुल्फें

"लहराती जुल्फें सफेद सूट और OMR शीट के साथ अन्दर की ओर आती वो उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी उन्हे देखते ही........ तेज होती धड़कनें एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन और सनसनाती हवॉओं के संग एक नया दिल....... प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था"

लहराती जुल्फें                                   
सफेद सूट                                           
और OMR शीट  के साथ                  
अन्दर की ओर आती वो                    
उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी
उन्हे देखते ही........                           
तेज होती धड़कनें                               
                        एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन                         
      और सनसनाती हवॉओं  के संग               
एक नया दिल.......                            
        प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था

लहराती जुल्फें सफेद सूट और OMR शीट के साथ अन्दर की ओर आती वो उस दिन एकदम कमाल लग रहीं थी उन्हे देखते ही........ तेज होती धड़कनें एक रोमैंटिक सी दिल में बजती धुन और सनसनाती हवॉओं के संग एक नया दिल....... प्यार की बस्ती में दस्तक दे रहा था

हुआ कुछ यूं कि मेरा उस दिन मैथ्स का paper second ka exam tha...
और लगभग सभी स्टूडेन्टस exam हॉल में आ चुके थे और एक invigilator (sir) भी लेकिन अभी 10 min समय बचा था तो अभी exam start nhi hua tha
तभी अचानक एक female invigilator अन्दर आतें दिखी और उसके बाद का जो सीन था उसने मुझे लिखने के लिये मजबूर कर दिया खैर हमेशा लिखने के लिये मेरे दिमाग में exam के समय की आता है और मेरे फिर मेरे exam का तो एकदम......😛😛😛 यूं तो मै चाहती थी उस समय मैं जो देख पा रही थी उसको लफ्जों में उतार दूं पर .....................
फिर क्या exam और अपने दिमाग में आती पंक्तियों को बैलेंस करने की कोशिश में लगी रही और इस तरह 2 घण्टे बीत गये
और फिर बाहर आते ही जब मैनें ये सब उत्सुकता से अपनी दोस्तों से कहने लगी तो मेरी एक दोस्त ने मुझे एक तेज का थप्पड़ लगाया और याद दिलाया कि आज का paper खराब हो चुका है पेपर बहुत कठिन था आज का कुछ होश है तब जाकर में मेरे दिमाग से ये भूत थोड़ा उतरा फिर मैनें सोचा और कहा चलो कोई नही हर तरफ प्रेम की हवायें तो बही और मुझे एक अच्छी पंक्ति मिली और exam हॉल पूरा का पूरा रोमैंटिक हो उठा था हर तरफ मैथ-मैथ नही बल्कि इश्क-इश्क महक रहा था बस फिर क्या paper खराब होने की tension के बावजूद भी मेरी इस हरकत पर सब हंसते हुये बाहर निकली but हॉ ये पहली बार था जब paper खराब होने के बाद मुझे तनिक भी दुख नही हुआ था ।लेकिन exam हॉल में plz कोई poetry मत लिखियेगा 😛
यकीन मानिये जब परिणाम आयेगा exam का तब बहुत अफसोस होगा कि काश ये पेपर भी ध्यान से देती तो...........😶😶😶
#nojoto
#nojotohindi

People who shared love close

More like this