सकून से भर देती है इस ,,, दर्द-ए-दिल को दीद उसकी , ताक कर हुस्न उस...

सकून से भर देती है इस ,,, 
दर्द-ए-दिल को दीद उसकी  , 

ताक कर हुस्न उस रूह का ,,, 
रूह मेरी हो गई मुरीद उसकी , 

उसकी जुलफे के हिशार से दिल ये,,, 
जगतार चाह कर भी छूट ना पाता हैं , 

तनहा पाता हूँ खुद को अचानक ,,, 
कमबख्त सपना जब टूट जाता है ,

सकून से भर देती है इस ,,, दर्द-ए-दिल को दीद उसकी , ताक कर हुस्न उस रूह का ,,, रूह मेरी हो गई मुरीद उसकी , उसकी जुलफे के हिशार से दिल ये,,, जगतार चाह कर भी छूट ना पाता हैं , तनहा पाता हूँ खुद को अचानक ,,, कमबख्त सपना जब टूट जाता है ,

People who shared love close

More like this