Jibanjyoti Sarma

Jibanjyoti Sarma Lives in Awesome City, NojotoLand, Nojoto

*Love to write, love to read *Assamese poet and writer *Plz follow me on Facebook (Jibanjyoti Sarma) & Instagram (poetjibanjyoti sarma), also in Twitter as Jibanjyoti Sarma *D. O. B. - 11.3.2002 *Assam, India *Thank you friends 🙏

  • Latest Stories
  • Popular Stories
चाहे दुनिया इधर से उधर हो जाए
मगर आप से अलविदा मै सोच नहीं सकता, 

आपको खोने के डर से डर लगता है
इसीलिए आपको पाने का हर सपना
अब आप पे कुर्बान कर दिया....


✍️जीवनज्योति शर्मा

प्यारा

5 Love
0 Comment
1 Share
"पर चर्चा और हम..............."
(एक छोटा सा निबंध...)



✍️जीवनज्योति शर्मा

पर चर्चा और हम......
----------------------------------------

_________एक बात मुझे समझ नहीं आता कि हम दिनभर में अपने से ज्यादा हमारे आस पड़ोस के लोगों के बारे में क्यों ज्यादा चर्चा करते हैं, जबकि उनकी किसी भी बात से हमारे दिनचर्या में कुछ भी फरक नहीं आता!!

एक दिन में 24 घंटे होते हैं और उनमें से 23 घंटे हम दूसरों के समालोचना में व्यस्त रहते हैं। मुझे लगता है हमारे देश का पिछे रहने की ये भी एक मुख्य कारण है। दूसरे देशों में जैसे AMERICA, JAPAN, ENGLAND आदि में जब हम नजर दालते हैं तो ये साफ साफ दिखाई देता है कि वहा के लोग अपना एक दिन यानी कि 24 घंटे कैसे इस्तेमाल करते हैं। उन देशों में परचर्चा के लिए कोई भी व्यक्ति अपना समय व्यतीत नहीं करता है, सब सिर्फ अपने कामों में ही ध्यान लगाता है। शायद यही वजह है कि आज वह देश ऊँचाइयों की बुलंदियों को चु रहे हैं और अब भी हम इसी बात की चर्चा में है कि पड़ोसी की बेटी अपने ड्राइवर के साथ भाग गया। और News Paper पड़ के रोज हम अपने ही सरकार को गाली दे रहे हैं कि उन लुटेरों की बजह से ही हमारा देश आगे नहीं बढ़ रहा है, जब की ऐसे अचल में नहीं है।

दोस्तों, जरा खुद सोचो - अगर हम देश के प्रगति पर भाषण देके, उसके लिए काम करने के बजाए किसने पिछली रात को क्या खाया इस पर चर्चा करके अपने समय बर्बाद करते रहेंगे तो सरकार कैसे देश को आगे बढ़ायेगा?

सरकार इंसानो से बनता है, भगवानों से नहीं। अगर आज हमारी देश दूसरों से कही पीछे है तो उसका जिम्मेदार भी हम ही हैं। सरकार सिर्फ एक इंजिन है और हम इंधन। अगर हम ही नाकाम रहेंगे तो भला इंजिन ऊर्जा पैदा कैसे करेगा? देश कैसे आगे बढ़ेगा? इसलिए देश की मंथर उन्नति पर सरकार को गाली देने का हमारा कोई अधिकार नहीं है।

अगर हम सच में अपने देश की प्रगति चाहते हैं तो हमें भाषण छोड़ के कामों में ध्यान लगाना चाहिए।सिर्फ सोच बदल ने से देश नहीं बदलेगा, हमें हमारे रोज की जिंदगी में उस बदले हुए सोच को इस्तेमाल भी करना होगा। तभी देश बदलेगा।

🇮🇳।। जय हिंद, जय भारत।।🇮🇳

__________________ ✍️जीवनज्योति शर्मा

17 Love
0 Comment
"जब तक हम किसी से दोस्ती नहीं करते हैं, 
अचल में तब तक
हम से कोई दुश्मनी भी नहीं करता है।" 



✍️जीवनज्योति शर्मा

 

2 Love
0 Comment
1 Share
नंगे तो हम पहले भी थे और आज भी है

फर्क सिर्फ इतना ही है कि
तब बदन में कपड़े नहीं थे
और आज जहन में मानवता नहीं है.....

✍️जीवनज्योति शर्मा

प्यारा

3 Love
0 Comment
1 Share
सपने हमारे भी ऊँचे थे
चलते चलते बस थक गया कदम
और राहे कही भटक गये

छिड़ीया तो अभी भी हमारे सामने ही है
बस समझ नहीं आ रहा
हमे जाना कहा है.....

✍️जीवनज्योति शर्मा

प्यारा

3 Love
0 Comment