Rana Hijab

Rana Hijab Lives in Fatehgarh, Uttar Pradesh, India

कुछ इस तरह बिखरी सी ज़िन्दगी को संवार लेती हूं , जो इस दिल तक आता है वो बस कागज़ पर उतार लेती हूं !! ...#nationalbaalshreeawardee(acting) #poet #kvian #rashufrvr❤️ #dancelover #foodie #lovemyparents #actinglover #poetrylover #luvwriting

  • Popular
  • Latest
  • Video

"कभी सच्ची मोहब्बत को ऐसे भी आज़माया करते हैं , अक्सर ताउम्र साथ चलने का वादा करने वाले राहों में छोड़ जाया करते हैं।।"

कभी सच्ची मोहब्बत को ऐसे भी आज़माया करते हैं , अक्सर ताउम्र साथ चलने का वादा करने वाले राहों में छोड़ जाया करते हैं।।

#वादे #राहें #ताउम्रमोहब्बत

26 Love
1 Share

"ना तुम्हारी थी ख़ता , ना था मेरा ही कुसूर , यूं तो ख़ुदा भी मुझसे रूठा था और कुछ वक़्त भी मजबूर ।।"

ना तुम्हारी थी ख़ता , ना था मेरा ही कुसूर , यूं तो ख़ुदा भी  मुझसे रूठा था और कुछ वक़्त भी  मजबूर ।।

#वक़्त #ख़ुदा #मजबूरियां #कुसूर

22 Love
2 Share

"वह उसकी ज़िन्दगी का महज़ क़िस्सा नहीं कहानी बनना चाहती थी , वक़्त के साथ रुक जाए वह नहीं रवानी बनना चाहती थी।। दौर-ए मुश्किल तो परख़ है ख़ुदा की, कि वह उस दौर में उसकी आसानी बनना चाहती थी।। साथ चलते वह तो ज़माना हैरान रह जाता , कि वह लोगों की वजह-ए हैरानी बनना चाहती थी।। शुरुआती रौनकों का क्या करना जनाब? वह तो उसकी आखिरत की जवानी बनना चाहती थी।। बाहरी इश्क़ की कहां चाह थी कभी उसे, वह तो इश्क़ उसका रूहानी बनना चाहती थी।। ख्वाहिशों के दरख़्त के पत्ते अक्सर चंद लम्हों में गिर जाया करते हैं, ताउम्र वफ़ा कर वह तो उसकी ज़िंदगानी बनना चाहती थी।। हवा के झोंके तो बारिशों से पहले भी आया करते हैं, कि वह तो उस बारिश का पानी बनना चाहती थी।। जिसका साथ पाकर ख़ुश रहता हमेशा वह , ख़ुदा की लाज़िम वह मेहरबानी बनना चाहती थी ।। वह उसकी ज़िंदगी का महज़ क़िस्सा नहीं कहानी बनना चाहती थी।। मगर अफ़सोस कि वह कहानी न बन पाई बस इक क़िस्सा बन कर ही रह गई, उसकी मुकम्मल सी ज़िन्दगी का इक अधूरा सा हिस्सा बन के रह गई ।।"

वह उसकी ज़िन्दगी का महज़ क़िस्सा नहीं कहानी बनना चाहती थी , वक़्त के साथ रुक जाए वह नहीं रवानी बनना चाहती थी।। दौर-ए मुश्किल तो परख़ है ख़ुदा की, कि वह उस दौर में उसकी आसानी बनना चाहती थी।।  साथ चलते वह तो ज़माना हैरान रह जाता , कि वह लोगों की वजह-ए हैरानी बनना चाहती थी।। शुरुआती रौनकों का क्या करना जनाब? वह तो उसकी आखिरत की जवानी बनना चाहती थी।। बाहरी इश्क़ की कहां चाह थी कभी उसे, वह तो इश्क़ उसका रूहानी बनना चाहती थी।। ख्वाहिशों के दरख़्त के पत्ते अक्सर चंद लम्हों में गिर जाया करते हैं, ताउम्र वफ़ा कर वह तो उसकी ज़िंदगानी बनना चाहती थी।। हवा के झोंके तो बारिशों से पहले भी आया करते हैं, कि वह तो उस बारिश का पानी बनना चाहती थी।। जिसका साथ पाकर ख़ुश रहता हमेशा वह , ख़ुदा की लाज़िम वह मेहरबानी बनना चाहती थी ।। वह उसकी ज़िंदगी का महज़ क़िस्सा नहीं कहानी बनना चाहती थी।। मगर अफ़सोस कि वह कहानी न बन पाई बस इक क़िस्सा बन कर ही रह गई, उसकी मुकम्मल सी ज़िन्दगी का इक अधूरा सा हिस्सा बन के रह गई ।।

#क़िस्सा #कहानी #अधूरीख्वाहिशें #इश्क़ #नमुकम्मल #जज़्बात

21 Love
2 Share

"मां मैं तेरे आंगन की थी फुलझड़ी, द्वार पे थी जब मैं खड़ी धीरे से इक झोंका आया , चंद लमहों में मैने ख़ुद को अंधेरे में पाया, मैं चीखी थी, चिल्लाई थी, मां तू कहती थी कि ख़ुदा हर तरफ है , तो क्यों उस दिन वह भी मुझे बचा न पाया ? मां मैं तो तेरी लाडली थी, फिर कैसे हो गई मैं तुझसे दूर? तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? मां तूने कल हाथों से सिले थे जो कपड़े तार तार हो गए , मैं तो छोटी सी कली थी , जिस पर कितने वार हो गए , नन्हें पौधे सी खड़ी थी अकेली , झोंकों ने मुझे किया मजबूर , मां तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? मां तुझे कैसे आएगी मेरे बिना नींद , भैया बाबा घर में सब कैसे मनाएंगे ईद? बाबा किसे देंगे ईदी , उन्होंने ने तो अपनी लाडली ही खो दी , मैं थी मासूम मैं जो गई चला गया तेरे घर का नूर, बाबा तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? इंसानियत से इंसाफ मांगती हूं ,आवाज़ को उठना होगा , मैं हर मर्यादा लांघती हूं , अलविदा मैं तो थी बेकसूर , हैवानियत ने किया मुझे सबसे दूर ए-दुनिया तू बताना ज़रूर आख़िर क्या था मेरा कसूर!!??"

मां मैं तेरे आंगन की थी फुलझड़ी, द्वार पे थी जब मैं खड़ी धीरे से इक झोंका आया , चंद लमहों में मैने ख़ुद को अंधेरे में पाया, मैं चीखी थी, चिल्लाई थी, मां तू कहती थी कि ख़ुदा हर तरफ है , तो क्यों उस दिन वह भी मुझे बचा न पाया ? मां मैं तो तेरी लाडली थी, फिर कैसे हो गई मैं तुझसे दूर? तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? मां तूने कल हाथों से सिले थे जो कपड़े तार तार हो गए , मैं तो छोटी सी कली थी , जिस पर कितने वार हो गए , नन्हें पौधे सी खड़ी थी अकेली , झोंकों ने मुझे किया मजबूर , मां तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? मां तुझे कैसे आएगी मेरे बिना नींद , भैया बाबा  घर में सब कैसे मनाएंगे ईद? बाबा किसे देंगे ईदी , उन्होंने ने तो अपनी लाडली ही खो दी , मैं थी मासूम मैं जो गई चला गया तेरे घर का नूर, बाबा तू ही बता क्या था मेरा कुसूर? इंसानियत से इंसाफ मांगती हूं ,आवाज़ को उठना होगा  , मैं हर मर्यादा लांघती हूं , अलविदा मैं तो थी बेकसूर , हैवानियत ने किया मुझे सबसे दूर ए-दुनिया तू बताना ज़रूर आख़िर क्या था मेरा कसूर!!??

#justiceforrapevictims #justiceforgirls #stopit #girlsrblessingsofgod #Society #Shame #justice #raiseurvoice

21 Love
1 Share

"कभी खुशियां होती हैं, कभी होते हैं ग़म , कभी वक़्त चलता रहता है, कभी जाता है थम , ज़िन्दगी के हर पड़ाव में, तपती धूप में और ठंडी छांव में, अच्छा लगेगा हर दर्द सहना , बस तुम हमेशा मेरे साथ रहना, जब भी कोई तेज़ हवा का झोंका आए , या जब क़दम मेरा डगमगा जाए, चेहरे पर हो जब हंसी, या कोई बात रुलाए "मैं हूं न" इतना तुम कहना, बस तुम हमेशा मेरे साथ रहना।।"

कभी खुशियां होती हैं, कभी होते हैं ग़म , कभी वक़्त चलता रहता है, कभी जाता है थम , ज़िन्दगी के हर पड़ाव में, तपती धूप में और ठंडी छांव में, अच्छा लगेगा हर दर्द सहना , बस तुम हमेशा मेरे साथ रहना, जब भी कोई तेज़ हवा का झोंका आए , या जब क़दम मेरा डगमगा जाए, चेहरे पर हो जब  हंसी, या कोई बात रुलाए  "मैं हूं न"  इतना तुम कहना, बस तुम हमेशा मेरे साथ रहना।।

"बस तुम हमेशा मेरे साथ रहना" #साथ #वादे #इरादे #ख्वाहिशें #औरतुम

19 Love
×

More Like This