simran1_sim

simran1_sim Lives in Bihar, Bihar, India

luv to write poems to express my feeling.. If u like my poems, please follow me https://instagram.com/anusim_poem_world?igshid=1sa0d78f9wgqq

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"चीज़ जिसे दिल कहते है रख के भूल गए हम कहीं हुआ जो हमें शायद वो इश्क़ है जिस से कोई रिहाई नहीं।। धीरे धीरे मोहब्बत होने लगी हमें उनके हर अदाओं से क्या बताएं जनाब उनसे ज्यादा हसीन कोई देखा नहीं।।"

चीज़ जिसे दिल कहते है रख के भूल गए हम कहीं
हुआ जो हमें शायद वो इश्क़ है जिस से कोई रिहाई नहीं।।

धीरे धीरे मोहब्बत होने लगी हमें उनके हर अदाओं से
क्या बताएं जनाब उनसे ज्यादा हसीन कोई देखा नहीं।।

#Vo_chiz_jise_dil_kehte #haseen #shayerri

44 Love

""

"#DearZindagi aaj dkha jb kch rote bilakhte bacho ko, rok ni pai main apni aashuon ko... Choti choti taklifo k lie hm koste h is khuda ko or ye muskura k par kr lte h bdi se bdi pareshaniyo ko... Khusnasib h hmare pass kch h lekin akhir kya h dusro ko dne ko... kch khusiyan kch gum h zindgi ka hissa sahas chaiye inko jhel k aage bdhne ko.. Apni zindgi me kch aise uljhe hm ki apne dukh k alawa wqt ni kisi or k dukh smjhne ko... Jo h jaisi h zindgi wqt nikalo us khuda ko sukriyada krne ko wqt nikalo us khuda ko sukriyada krne ko..."

#DearZindagi aaj dkha jb kch rote bilakhte bacho ko,
rok ni pai main apni aashuon ko...

Choti choti taklifo k lie
hm koste h is khuda ko
or ye muskura k par kr lte h bdi se bdi pareshaniyo ko...

Khusnasib h hmare pass kch h 
lekin akhir kya h dusro ko dne ko...

kch khusiyan kch gum h zindgi ka hissa
sahas chaiye inko jhel k aage bdhne ko..

Apni zindgi me kch aise uljhe hm
ki apne dukh k alawa wqt ni kisi or k dukh smjhne ko...

Jo h jaisi h zindgi
wqt nikalo us khuda ko sukriyada krne ko

wqt nikalo us khuda ko sukriyada krne ko...

#sukriya

38 Love

""

"इश्क़ और चर्चा जब हुआ था तुझसे पहला पहला प्यार हुए तब हमारे इश्क़ के चर्चे हज़ार।। सूने ताने जमाने के क्या बताऊं कहते थे लोग ये तो है बस दो दिन का खूमार।। सात साल गुजर गए लेकिन अब भी है मेरे हाथो में तेरा साथ बस इतना ही कहना चाहती हूं उन सब से में इस बार।।"

इश्क़ और चर्चा जब हुआ था तुझसे  पहला पहला प्यार
हुए तब हमारे इश्क़ के चर्चे हज़ार।।

सूने ताने जमाने के क्या बताऊं
कहते थे लोग ये तो है बस दो दिन का खूमार।।

सात साल गुजर गए लेकिन अब भी है मेरे हाथो में तेरा साथ
बस इतना ही कहना चाहती हूं उन सब से में इस बार।।

#ishq
#Charche

37 Love

""

"शाम और इंतज़ार आज भी याद है मुझे वो दौर जब हर शाम मैं तेरे इंतज़ार में छत पे आती थी।। आज भी याद है मुझे होठों पे मुस्कान लिए कैसे तेरे आने की घंटो राह मैं निहारती थी।। बित गया वो दौर लेकिन आज भी है मुझे इंतज़ार तेरे उसी आहट का जिसे महसूस कर मैं ख़ुद को संवारती थी।।"

शाम और इंतज़ार आज भी याद है मुझे वो दौर जब हर शाम 
मैं तेरे इंतज़ार में छत पे आती थी।।

आज भी याद है मुझे होठों पे मुस्कान लिए
 कैसे तेरे आने की घंटो राह मैं निहारती थी।।

बित गया वो दौर लेकिन आज भी है मुझे इंतज़ार तेरे उसी आहट का
जिसे महसूस कर मैं ख़ुद को संवारती थी।।

#sham
#intezar

33 Love

""

"दुनियां की भीड़ में देखो कोई तन्हाई दिल में छुपाए चल रहा होगा सब की ख्वाहिशें पूरी करने वाले के दिल टटोल के देखो अपने कितने सपने भुलाएं बैठा होगा।। होती तो हर जगह है सिर्फ मुस्कुराहट के चर्चे कभी हस्ते हुए चेहरे के आंखों में झांक कर देखो वो कितने आशु छुपाएं बैठा होगा।।"

दुनियां की भीड़ में देखो कोई तन्हाई दिल में छुपाए चल रहा होगा
सब की ख्वाहिशें पूरी करने वाले के दिल  टटोल के देखो अपने कितने सपने भुलाएं बैठा होगा।।


होती तो हर जगह है सिर्फ मुस्कुराहट के चर्चे
कभी हस्ते हुए चेहरे के आंखों में झांक कर देखो वो कितने आशु छुपाएं बैठा होगा।।

#Hansti_aankhon_mei_aansu

32 Love